Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

एमएफ पर सेबी का डंडा, टैक्स चोरी का हिसाब मांगा

कॉरपोरेट, एचएनआई, एनआरआई टैक्स चोरी कर रहे हैं और डिविडेंड लेकर कैपिटल गेन्स बचाया जाता है।
अपडेटेड Jan 15, 2016 पर 14:00  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

म्यूचुअल फंड की डिविडेंड के जरिए टैक्स चोरी पर सेबी ने सख्त रवैया कर दिया है। सेबी ने म्युचुअल फंड से पूछा है कि 24 घंटों के अंदर बताएं कि इसमें सच्चाई क्या है और क्या उन्होंने कभी ऐसा किया है, ये मामला आगे काफी गंभीर हो सकता है। कॉरपोरेट, एचएनआई, एनआरआई टैक्स चोरी कर रहे हैं और डिविडेंड लेकर कैपिटल गेन्स बचाया जाता है।


म्यूचुअल फंड से टैक्स चोरी कैसे होती है इसको इस प्रकार देखें। पहले दिन म्यूचुअल फंड 91 दिन बाद डिविडेंड की खबर लीक करता है जो कि गैरकानूनी है। वहीं दूसरे दिन कॉरपोरेट, एचएनआई, एनआरआई ने फंड में 30 रुपये की एनएवी पर 500 करोड़ रुपये डाल देते हैं। 91 वें दिन म्युचुअल फंड 15 रुपये के डिविडेंड का ऐलान करता है। 92वें दिन फंड 15 रुपये प्रति यूनिट का डिविडेंड देता है और उसे टैक्स फ्री 250 करोड़ रुपये वापस मिल जाते हैं। इससे एनएवी गिर जाती है। 93वें दिन कॉरपोरेट सभी यूनिट 15 रुपये के भाव पर बेच देते हैं और उन्हें बाकी के 250 करोड़ रुपये वापस मिल जाते हैं। इस तरह पूरे 500 करोड़ रुपये टैक्स फ्री हो जाते हैं।


वीडियो देखें