जून तिमाहीः किसने मारी बाजी, कौन रहा पीछे -

जून तिमाहीः किसने मारी बाजी, कौन रहा पीछे

प्रकाशित Fri, 19, 2016 पर 13:42  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जून तिमाही के नतीजे आ चुके हैं और बैंकों की हालत में कोई भी सुधार होता नहीं दिख रहा। प्राइवेट बैंक हो या सरकारी, सभी एनपीए की समस्या से अब भी जूझ रहे हैं। इतना ही नहीं जून तिमाही में सरकारी बैंकों का कुल घाटा करीब 2.5 करोड़ का हो गया है। लेकिन इसके बावजूद बैंक निफ्टी 1.5 साल की ऊंचाई पर है और बैंक शेयरों ने अच्छे रिटर्न दिए हैं। क्या बैंकों में आगे भी है पैसा कमाने का मौका ये बताने के लिए हम लेकर आए हैं खास पेशकश बैंक एंड एनबीएफसी टॉप पिक्स।


जून तिमाही में रिटेल पर फोकस करने वाले प्राइवेट बैंकों का प्रदर्शन अच्छा रहा है। लेकिन प्राइवेट बैंकों में एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक की ग्रोथ पर अब भी दबाव जारी है। जून तिमाही एक्सिस बैंक का मुनाफा -21.40 फीसदी और ग्रॉस एनपीए 2.54 फीसदी रहा। वहीं आईसीआईसीआई बैंक का मुनाफा -25 फीसदी और ग्रॉस एनपीए 5.87 फीसदी रहा।

इंडसइंड बैंक का जून तिमाही मुनाफा काफी अच्छा रहा और करीब 26 फीसदी बढ़ते नजर आया। वहीं इंडसइंड बैंक का ग्रॉस एनपीए 0.91 फीसदी रहा। एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और यस बैंक का मुनाफा और ग्रॉस एनपीए स्थिर रहा।    


पीएसयू बैंकों की बात करें तो जून तिमाही में इन को कुल 2413 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। लगातार बढ़ते एनपीए के चलते जून तिमाही में आईओबी का घाटा बढ़कर 1450.50 करोड़ रुपये रहा और ग्रॉस एनपीए 20.48 फीसदी रहा। आईओबी में पिछले 13 साल में सबसे ज्यादा एनपीए बढ़ते नजर आएं। वहीं स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के बैड लोन में भी मामूली बढ़ोतरी देखने को मिली।


जून तिमाही में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का मुनाफा और ग्रॉस एनपीए स्थिर रहा है। बैंक ऑफ इंडिया का मुनाफा करीब 1046 करोड़ रुपये और ग्रॉस एनपीए 6.94 फीसदी रहा। लगातार बढ़ता आईओबी के साथ-साथ यूको बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, पीएनबी और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के मुसीबत बना और इस वजह से जून तिमाही इन सभी बैंकों के नतीजों पर दबाव देखने को मिला। 


जून तिमाही में सभी एनबीएफसी कंपनियों के बेहद अच्छे नतीजे रहे हैं। अच्छी रिकवरी और एसेट क्वालिटी स्थिर रही है। अच्छे मॉनसून से एनबीएफसी कंपनियों में आगे भी अच्छी ग्रोथ की उम्मीद है।


रिस्क कैपिटल एडवाइजर्स के डी डी शर्मा ने अपनी टॉप पिक्स में आईसीआईसीआई बैंक और एसबीआई को शामिल किया है। उन्होंने आईसीआईसीआई बैंक में 300 रुपये के लक्ष्य के साथ 1 साल के लिए निवेश की सलाह दी है। वहीं एसबीआई में भी 300 रुपये के लक्ष्य के साथ सालभर के लिए खरीदारी की राय दी है।


सेठी फिनमार्ट के मैनेजिंग डायरेक्टर विकास सेठी ने एलएंडटी फाइनेंस और बैंक ऑफ बड़ौदा को अपने टॉप पिक में शामिल किया है। विकास सेठी ने एलएंडटी फाइनेंस में 150 रुपये के लक्ष्य के साथ 1 साल के लिए निवेश की सलाह दी है। वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा में भी 225 रुपये के लक्ष्य के साथ सालभर के लिए खरीद की राय दी है।


ट्रेड स्विफ्ट ब्रोकिंग के संदीप जैन ने डीसीबी बैंक और सैटिन क्रेडिटकेयर नेटवर्क को अपने टॉप पिक में शामिल किया है। संदीप जैन ने संदीप जैन में 150 रुपये के लक्ष्य के साथ अगले 6-9 महीने के लिए निवेश की सलाह दी है। वहीं सैटिन क्रेडिटकेयर नेटवर्क में भी 800 रुपये के लक्ष्य के साथ 6-9 महीने के लिए खरीद की राय दी है।


वीडियो देखें