Moneycontrol » समाचार » आईपीओ - क्लासरूम

निवेशक बनने के लिए एमबीए जरूरी नहीं

सुकुमार राजा का मानना है कि अच्छा निवेशक बनने के लिए एमबीए जैसी डिग्रियों की जरूरत नहीं है।
अपडेटेड Nov 18, 2010 पर 09:06  |  स्रोत : Hindi.in.com

moneycontrol.com


फ्रैंकलिन टेम्पल्टन इंवेस्टमेंट्स के डायरेक्टर और सीआईओ, सुकुमार राजा का मानना है कि अच्छा निवेशक बनने के लिए एमबीए जैसी डिग्रियों की जरूरत नहीं है।


सवाल: आईआईएम-बैंगलोर से आपने क्या सीखा?



सुकुमार राजा: आईआईएम-बैंगलोर में जाकर पढ़ने से मेरे सामने नई दुनिया आ गई। वहां नए लोगों से मैंने नई बातें सीखीं। जिससे मेरा नजरिया बदला।



सवाल: आप शेयर बाजार में कैसे उतरे?



सुकुमार राजा: मैंने एमबीए इसी वजह से किया था कि मैं शेयर बाजार में काम करना चाहता था।


सवाल: 1990 में शेयर बाजार में काम करने का कैसा अनुभव रहा?



सुकुमार राजा: 1990 में निजी कंपनियों को बाजार में कारोबार करने की इजाजत नहीं थी। ऐसे में, यूटीआई में काम करते वक्त मुझ पर कम दबाव था।


सवाल: एमबीए की डिग्री से आपका साथ दिया है?



सुकुमार राजा: शेयर बाजार में काम करने के लिए सिर्फ एमबीए की डिग्री काफी नहीं है।


सवाल: क्यों आपने 1993 में जम के खरीदारी की, जब निवेशकों का बाजार पर से भरोसा उठ चुका था?



सुकुमार राजा: उस वक्त निवेश की काफी संभावनाएं नजर आ रही थीं। शेयर काफी हद तक अंडरवैल्यूड थे। मैंने बजाज ऑटो, एनआईआईटी, एलएंडटी, डॉ रेड्डीज, रैनबैक्सी जैसी कंपनियों में पैसा लगाया था।


सवाल: आप आमतौर पर भारी मात्रा में शेयर खरीदते-बेचते हैं। ऐसा क्यों?



सुकुमार राजा: मेरा मानना है कि अगर आपके पास कम शेयर हैं, तो आपके लिए बाद में और खरीदारी करना मुश्किल होता है। लेकिन, मैं कुछ शेयरों पर फोकस नहीं करता हूं। पोर्टफोलियो में 25-40 शेयरों का होना कम जोखिमभरा होता है।


सवाल: आपकी निवेश रणनीति क्या है?



सुकुमार राजा: मैं बॉटम-अप रणनीति के साथ चलता हूं। आखिर में कंपनी के प्रदर्शन पर ही आपका फायदा या नुकसान निर्भर करता है।



मेरा मानना है कि सफल निवेशक बनने के लिए एमबीए होना जरूरी नहीं है। आपको बाजार की समझ और कारोबार की जानकारी होनी चाहिए। इसके अलावा आत्म-विश्वास महत्वपूर्ण है, क्योंकि आपको अपने फैसलों पर भरोसा होना चाहिए।