Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड विश्लेषण

क्या पोर्टफोलियो में शामिल करेंगे सोना?

शेयर, बॉन्ड और रियल इस्टेट की कीमतों की तुलना में सोने में सबसे ज्यादा रिटर्न हासिल हुआ है।
अपडेटेड Dec 04, 2010 पर 18:03  |  स्रोत : Hindi.in.com

4 दिसंबर 2010



moneycontrol.com



दिवाली यानि प्रकाश का पर्व, जो भारतीय परिवारों के लिए सोना खरीदने की सौगात साथ लेकर आती है। कई युगों से भारतीय लोग इस पीली धातु के कायल हैं। धनतेरस और दिवाली के दिन रिकार्ड मात्रा में सोने की खरीदारी की जाती है।



भारतीय परंपरा में सोने को काफी महत्वपूर्ण धातु माना जाता है। सोने को पैसे की कीमत के रूप में रखा जाता है। बच्चों को उनकी शादियों के समय भी उपहार के तौर पर सोना दिया जाता है। सोने का उपयोग गहने के रूप में किया जाता है।



हालांकि सोने के इन सभी उपयोग के बारे में हर कोई जानता है। पिछले कुछ वर्षों से सोने को निवेश के तौर पर चुना जाय इस पर कई बार बहस हो चुकी है। पिछले कई वर्षों से सोने का जादू विश्व के लगभग सभी निवेशकों के सिर चढ़कर बोल रहा है। जिम रोजर्स जैसे दिग्गज निवेशक भी मानते हैं कि सोना निवेश के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण है। गोल्ड ईटीएफ बेहद प्रसिद्ध हो रहा है और इसका कारोबार भी कई गुना बढ़ रहा है। डॉलर की गिरावट से सोने में निवेश का बढ़िया मौका हाथ लग गया है।



जैसा कि सोने को इक्विटी, बॉन्ड या रियल इस्टेट जैसे प्रचलन वाले एसेट क्लास में शुमार नहीं किया जाता है। सोने में निवेश करने से कंपनियों के शेयरों से हासिल होनेवाला डिविडेंड नहीं मिलता है और ना ही बॉन्ड से हासिल होनेवाले ब्याज की भांति सोने में ब्याज मिलता है। तो सवाल ये है कि सोने हमें क्या हासिल होगा। सोने में क्यों निवेश करें। क्या सोने में निवे्श करना चाहिए।



आपको जवाब मिलेगा हां, सोने में निवेश करना जरूरी है। सोने में निवेश की संभावनाएं काफी बढ़ गई हैं।



सोने में निवेश क्यों है महत्वपूर्ण -



पैसों के वैल्यूएशन का स्टोरः सोने की कीमतों में जबर्दस्त उछाल देखने को मिल रही है। ऐसे में पैसों की जरूरत पड़ने पर ज्यादा मूल्यांकन पर सोने को बेचकर मुनाफा कमाया जा सकता है। इसके अलावा कई अर्सों तक सोना खराब होनेवाली धातु नहीं है।



सोने को लोहा या कॉपर या एल्यूमिनियम की तरह बड़े पैमाने पर खरीदने की जरूरत नहीं है।



सरकारी की ओर से सोने के भंडार से अपनी मुद्रा को मजबूती प्रदान की जाती है। ऐसे में सोने की महत्ता यूं ही बयां हो जाती है।



एसेट लोकेशन से साफ जाहिर है कि निवेश को कई जगह लगाने की सलाह दी जाती है, तो सोने में गिरावट की संभावना बेहद कम है इसीलिए निवेश के लिहाज से सोना सबसे अच्छा एसेट है। शेयरों, बॉन्ड और रियल इस्टेट की कीमतों की तुलना में सोने में सबसे ज्यादा रिटर्न हासिल हुआ है। ऐसे में इस एक कारण से जाहिर होता है कि सोने को पोर्टफोलियो में शामिल करें।



ये लेख कर्मयोग नॉलेज एकेडमी के मालिक अमित त्रिवेदी ने लिखा है। अमित त्रिवेदी से karmayog.knowledge@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है।