कंपनियों का बनेगा आधार जैसा नंबर -
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कंपनियों का बनेगा आधार जैसा नंबर

प्रकाशित Mon, 05, 2018 पर 15:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आधार कार्ड के तर्ज पर अब सरकार कंपनियों  के लिए आधार नंबर लाने की योजना बना रही है। इसके लिए सभी उद्योगों का रजिस्ट्रेशन जीएसटीएन में करना अनिवार्य हो सकता है। इसके तहत 1 साल के अंदर  सभी उद्योगों को रजिस्ट्रेशन करना होगा साथ ही अपना पैन नंबर भी जीएसटीएन नंबर के साथ लिंक भी करना होगा।


सरकार ने बजट में सभी कंपनियों के लिए आधार बनाने की घोषणा की है। इसको बनाने का खाका नीति आयोग ने तैयार किया है। नीति आयोग के मुताबिक इससे ईज ऑफ डूइिंग बिज़नेस को बढावा मिलेगा। नीति आयोग ने इसके लिए कुछ अहम सिफारिशें भी सरकार को दी है। इसके तहत कंपनियों का यूनिवर्सल इस्टेबलिशमेंट नंबर बनेगा। सभी उद्योगों की पहचान उसके जीएसटीएन नंबर से की जाएगी। सभी उद्योगों को अपना पैन कार्ड जीएसटीएन नंबर से जोड़ना होगा। कमर्शियल औऱ नॉन कमर्शियल दोनों तरह के उदयोगों को जीएसटीएन में रजिस्ट्रेशन करना होगा। 1 साल के अंदर सभी उदयोगों का रजिस्ट्रेशन होगा। सभी सरकारी एजेंसियों का डेटा सेंट्रल सर्वर पर होगा। इससे सभी मंत्रालय डेटा को देख सकेंगे। इससे कंपनी को अलग अलग मंत्रालयों के पास मंजूरी की जरुरत नहीं पढ़ेगी और ईज ऑफ डूइिंग बिज़नेस को बढ़ावा  मिलेगा।


सूत्रों के मुताबिक इस पुरी प्रकिया से 21 शताब्दी का डेटा फ्रेमवर्क तैयार होगा। इससे भविष्य में सरकार के लिए किसी भी कंपनी का डेटा पाना आसान होगा। सरकार इस डेटा के जरिए इंफोरसमेंट, रेग्यूलेशन या रिसर्च आसानी से कर सकेगी। इससे उद्योगो में नई नौकरियों के अवसरों और छंटनी के बारे भी भी पता चल सकेगा। साथ ही सरकार उद्योगों को आसानी से कंट्रोल भी कर सकेगी।