कमोडिटी मार्केट: कच्चे तेल में नरमी, क्या करें -
Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

कमोडिटी मार्केट: कच्चे तेल में नरमी, क्या करें

प्रकाशित Thu, 08, 2018 पर 16:42  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कच्चा तेल अब सस्ता होने लगा है। अमेरिका में उत्पादन बढ़ने से कच्चे तेल में गिरावट बढ़ गई है और आज से इस साल की बढ़त गंवा चुका है। ग्लोबल मार्केट में ब्रेंट का दाम 65 डॉलर के स्तर पर आ गया है। जबकि नायमेक्स क्रूड 61 डॉलर पर कारोबार कर रहा है। दरअसल अमेरिका में क्रूड का उत्पादन 1 करोड़ बैरल के पार चला गया है और वहां इसका भंडार भी बढ़ा है। ऐसे में कीमतों पर चौतरफा मार पड़ी है। पिछले 2 हफ्ते में कच्चे तेल की कीमतों में करीब 6 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।


सोने की चमक भी फीकी पड़ गई है। घरेलू बाजार में इसका दाम 30 हजार रुपये के नीचे आ गया है। दरअसल ग्लोबल मार्केट में सोना 1310 डॉलर के नीचे का स्तर छू चुका है और पिछले 2 हफ्ते में इसका दाम करीब 4 फीसदी टूट गया है। डॉलर में रिकवरी से ग्लोबल मार्केट में कीमतों पर दबाव है। वहीं चांदी का दाम भी 2 हफ्ते में करीब 8 फीसदी लुढ़क गया है। उधर बेस मेटल में भी चौतरफा गिरावट आई है और कॉपर समेत सभी मेटल 0.5 से 1 फीसदी नीचे आ गए हैं।


करेंसी मार्केट में भी भारी उठापटक हो रही है। डॉलर के मुकाबले रुपया दिन के ऊपरी स्तर से फिर से फिसल गया है। डॉलर की कीमत 64 रुपये 30 पैसे के पास है। दरअसल डॉलर में बढ़त से रुपये पर दबाव पड़ा है।


एग्री कमोडिटी मार्केट में आज चौतरफा गिरावट आई है। गेहूं को छोड़कर सभी कमोडिटी में बिकवाली हावी है। खाने के तेल करीब 0.5 फीसदी फिसल गए हैं। इसके साथ ही सोयाबीन और सरसों पर भी बिकवाली हावी है। मांग में कमी के अनुमान से ग्वार का भाव करीब 1.5 गिर गया है। कच्चे तेल में गिरावट का ग्वार के कारोबार पर असर पड़ा है। वहीं चने में दो दिन की तेजी भी आज हवा हो गई है। मसालों में जीरा और इलायची 1.5 फीसदी टूट गए हैं। जबकि हल्दी और धनिया में 0.5 फीसदी नीचे कारोबार हो रहा है।


चीनी का मार्केट फिर से सरकारी नियंत्रण में जा सकता है। दरअसल सरकार फिर से कोटा सिस्टम लाने की तैयारी कर रही है। हालांकि इस बार मिलों को फायदा पहुंचाने के लिए ये कदम उठाया जाएगा, दरअसल कीमतों में आई गिरावट से चीनी मिलों को लागत निकालना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में वे गन्ना किसानों के भुगतान को लेकर सरकार से बार-बार राहत की मांग कर रही है। हमें सूत्रों से जानकारी मिली है कि मिलों की मांग पर सरकार आज देर शाम ही चीनी पर बड़े एलान कर सकती है। माना ये जा रहा है कि मिलों को फरवरी के करीब 86 परसेंट स्टॉक को अगले महीने तक होल्ड करने की इजाजत मिल सकती है। सभी मिलों को तय मात्रा में ही चीनी बेचनी पड़ सकती है। आपको बता दें साल 2012 में इंडस्ट्री को राहत देने के नाम पर सरकार ने चीनी पर से नियंत्रण हटा लिया था। लेकिन अब फिर से राहत देने के लिए ही सरकार को दोबारा कोटा सिस्टम लाना पड़ सकता है।


एंजेल कमोडिटीज की निवेश सलाह


सरसों एनसीडीईएक्स (अप्रैल वायदा): बेचें - 4120, स्टॉपलॉस - 4200, लक्ष्य -  3950


कैस्टर एनसीडीईएक्स (मार्च वायदा): बेचें - 4250,, स्टॉपलॉस - 4350, लक्ष्य - 4050


कुंवरजी कमोडिटीज की निवेश सलाह
 
सोना एमसीएक्स (अप्रैल वायदा): बेचें - 29920, स्टॉपलॉस - 30040, लक्ष्य -  29750


कॉपर एमसीएक्स (फरवरी वायदा): बेचें - 438, स्टॉपलॉस - 442, लक्ष्य -  430