Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

गिरावट का जोखिम कायम, संभल कर लगाएं दांव

प्रकाशित Mon, 05, 2018 पर 11:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार की आगे की दिशा और चाल पर बात करते हुए मार्केट एक्सपर्ट उदयन मुखर्जी ने कहा कि ट्विटर पर चल रहा ग्लोबल ट्रेडवार कब तक वास्तविक रुप लेगा इस पर अभी कुछ कहा नहीं जा सकता। अगले कुछ दिनों में अगर यूएस की तरफ से टैरिफ बढ़ाया जाता है तो उसका पहला असर मेटल शेयरों पर होगा। अगर ये टैरिफ आ जाते हैं तो हमें जेएसडब्ल्यू स्टील, हिंडाल्को, टाटा स्टील जैसे शेयरों की समीक्षा करनी होगी। निवेशकों को मेटल सेक्टर पर सतर्क रहने की सलाह है।


उदयन मुखर्जी का कहना है कि उत्तर-पूर्व में बीजेपी की शानदार जीत के बावजूद बाजार के लिए पोलिटिकल रिस्क खत्म नहीं हुआ है क्योंकि नार्थ-ईस्ट देश का बहुत छोटा हिस्सा है। आगे कर्नाटक, राजस्थान, एमपी और छत्तीसगढ़ के चुनाव ज्यादा अहम होंगे जिनपर बाजार की नजरें रहेंगी। उदयन मुखर्जी के मुताबिक साल 2018 में पोलिटिकल रिस्क की वजह से बाजार में भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा।


उदयन मुखर्जी का मानना है कि ग्लोबल चिंताओं, राजनैतिक अनिश्चितता के चलते निफ्टी के लिए 10300 पर टिकना मुश्किल होता जा रहा है आगे निफ्टी 10000 तक फिसल सकता है।


बैंकिग शेयरों पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि बैंकिंग शेयरों में अभी रिकवरी की बहुत कम उम्मीद दिख रही है। उदयन का ये भी कहना है कि पीएनबी घोटाले का असर पूरे बैंकिंग सेक्टर में देखने को मिलेगा। घोटाले के बाद बैंक कर्ज देने से कतराएंगे।


उदयन मुखर्जी का कहना है कि जीएसटी का प्रभाव खत्म होने के बाद आ रही इकोनॉनिक रिकवरी में ऑटो सेक्टर को सबसे ज्यादा फायदा मिल रहा है जिसको देखते हुए ऑटो शेयर काफी अच्छे लग रहे हैं। लेकिन अभी देश में कारोबार करने वाली ऑटो कंपनियों पर ही फोकस करें क्योंकि एक्सपोर्ट ओरिएंटेड ऑटो कंपनियों पर ट्रेड वार का असर पड़ सकता है।