Moneycontrol » समाचार » राजनीति

पीएनबी घोटाला: रविशंकर प्रसाद ने चिदंबरम को घेरा

प्रकाशित Tue, 06, 2018 पर 10:59  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बैंक घपलों और लोन डिफॉल्ट को लेकर अब सरकार और विपक्ष में आरपार की लड़ाई छिड़ गई है। कल केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सीधे पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के नाम को पीएनबी बैंक घपले से जोड़ा। उन्होंने मेहुल चोकसी और चिदंबरम के कनेक्शन पर कई आरोप लगाए। इसके अलावा उन्होंने ये भी कहा कि बैंकों में जो गड़बड़ियां हुईं हैं उसके लिए यूपीए सरकार पूरी तरह कसूरवार है। रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि कांग्रेस ने बैंकों के रिकॉर्ड में सही चीज़ें नहीं आने दीं, जिससे एनपीए बढ़ता गया।


रविशंकर प्रसाद ने यूपीए शासन में लाई गई गोल्ड स्कीम 80:20 को लेकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि इस स्कीम का मेहुल चौकसी और नीरव मोदी ने गलत तरीके से फायदा उठाया और इसको लेकर पी चिदंबरम की भूमिका की जांच होनी चाहिए।


रविशंकर प्रसाद से पहले रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भी पीएनबी महाघोटाले के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताया था। संसद में पर्दाफाश करने की बात कही। उधर रविशंकर प्रसाद के सवालों का जवाब देने के लिए गुलाम नबी आजाद सामने आए। विदेश भागे घोटालेबाजों के बहाने पीएम मोदी के विदेश दौरों पर निशाना साधा।


आइए जानते हैं कि आखिर 80:20 गोल्ड स्कीम थी क्या? दरअसल चालू खाता में घाटे को कम करने के लिए ये स्कीम लाई गई थी। इसके तहत सोने के इंपोर्ट की इजाजत उसी को मिलती थी जो मंगाए गए सोने का कम से कम 20 फीसदी गोल्ड को ज्वेलरी बनाकर एक्सपोर्ट करता था। आरोप है कि पी चिदंबरम के वित्त मंत्री रहते हुए मेहुल चौकसी ने इस स्कीम का गलत फायदा उठाया। सूत्रों के हवाले से खबर है कि इससे जुड़ी सभी फाइलों का जांच एजेसिंयां पड़ताल करेगी।