Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

चुनौती भरा महिलाओं का काम, कैसे बढ़ें आगे

प्रकाशित Thu, 08, 2018 पर 18:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को अलग-अलग तरीके से मनाया जा रहा है। महिलाओं को लेकर काफी बात-चीत और विमर्श हो रहा है, तो हमने सोचा कि क्यों ना हम भी आज इस मौके पर बात अपनी सहयोगियों से कि उन्हें उनकी जिंदगी में एक महिला होने के नाते किन किन चीजों से गुजरना पड़ता है या कुछ सालों पहले और अब में क्या बदलाव वो देखती हैं। और अभी भी क्या चुनैतियां उन्हें नज़र आती है।


महिलाओं का काम काफी चुनौतीपूर्ण होता है। घर और ऑफिस के बीच सामंजस्य बैठाना होता है। ऑफिस का स्ट्रेस घर पर नहीं लाना होता है। देर रात ऑफिस में काम करना महिलाओं के लिए चुनौती भरा होता है। घरेलू काम के साथ ऑफिस में बेहतर परफॉर्मेंस देना, बच्चों की देखभाल के साथ ऑफिस की जिम्मेदारी, बच्चों की पढ़ाई-लिखाई पर ध्यान देना जरूरी और काम के मामले में पुरुषों से प्रतिस्पर्धा जैसे कई चुनौतीपूर्ण काम महिलाओं को करने होते है।


महिलाओं का कहना है कि करियर को लेकर उत्साहित रहें। कॉरपोरेट सेक्टर में कमिटमेंट के साथ आगे बढ़ें और प्रोफेशनल, पर्सनल लाइफ में बैलेंस बनाएं। अपने समय को मैनेज करें। साथ आइडेंटिटी क्राइसिस का खयाल ना लाएं।


महिलाओं के लिए सरकार ने मैटरनिटी लीव में भी बढ़ी राहत दी है। सरकार ने मैटरनिटी लीव कानून को पास करते हुए गर्भवती महिलाओं को मिलेगी 26 हफ्ते की छुट्टी देना का एसान भी किया था। बता दें कि पहले 12 हफ्ते की मैटरनिटी लीव मिलती थी।  मैटरनिटी लीव के दौरान महिलाओं को सैलरी मिलेगी।


महिलाओं को अपने अधिकारी की जानकारी होनी चाहिए। महिला को अभद्र इशारा, हरकत करना कानूनन अपराध है। महिलाओं को समान वेतन का अधिकार है। महिलाओं के प्रति आपत्तिजनक जानकारी प्रकाशित करना गैरकानूनी माना जाता है। कंपनियों में एंटी सेक्‍सुअल हैरेसमेंट कमिटी बनाना अनिवार्य है और इस कमिटी की 50 फीसदी सदस्‍य महिलाएं होनी चाहिए। देश में दहेज लेना और देना दोनों अपराध है। आईपीसी की धारा 498A में घरेलू हिंसा से जुड़े प्रावधान है। महिलाएं घरेलू हिंसा के खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकती हैं।


भारत में सैलरी पर मॉन्सटर डॉट कॉम का सर्वे के मुताबिक महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले 20 फीसदी कम सैलरी पाती है। हालांकि एक साल पहले के मुकाबले अंतर कम हुआ है।  2016 में महिलाओं को 24.8 फीसदी कम वेतन मिलता था।