Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

महाराष्ट्र में किसान आंदोलन से सियासत गर्म

प्रकाशित Mon, 12, 2018 पर 16:10  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कर्जमाफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिेशें लागू करवाने के इरादे से आज किसानों का एक डेलीगेशन महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़नवीस से मिला। अब सीएम देवेन्द्र की अध्यक्षता में एक मीटिंग की जा रहा है जिसमें सभी दलों के नेता और किसानों का डेलीगेशन मौजूद है। इस मुलाकात के बाद ही किसान फैसला करेंगे कि उनका मार्च खत्म होगा या वो विधानसभा का घेराव करेंगे। इससे पहले विधानसभा में आज सीएम फड़णवीस ने किसानों के मुद्दे पर सकारात्मक निर्णय लेने की बात कही थी, साथ ही किसानों की मांगें पूरी करने के लिए समयसीमा तय करने की बात कही थी। किसानों की मांग के आगे फड़णवीस सरकार झुकती नजर आ रही है। खबरें हैं कि किसानों की 80 फीसदी मांगे मान ली गई हैं। हालांकि किसान अब भी पूरी तरह से कर्जमाफी की अपनी मांग से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। इधर मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक मीटिंग चल रही ही जिसमें सभी दलों के नेता और किसानों का डेलीगेशन मौजूद है।


इस बीच महाराष्ट्र से दिल्ली तक किसान आंदोलन से सियासत गर्म है। आज इस लड़ाई में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी कूदे। राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर किसानों को समर्थन दिया था, राहुल ने लिखा कि ये केवल महाराष्ट्र के किसानों की मांग नहीं है, बल्कि पूरे देश के किसानों की यही समस्या है।


वहीं अपनी मांगों को लेकर पैदल मार्च कर रहे किसानों की मदद करने के लिए मुंबई के डिब्बावाला और आम लोग आगे आ रहे हैं। शहर के मशहूर डिब्बावाले किसानों को खाना और पानी मुहैया करवा रहे हैं। मुम्बई डिब्बावाला एसोसिएशन का कहना है कि देश को अन्न देने वाले इन किसानों की मदद करना हमारा सौभाग्य है। एसोसिएशन का कहना है कि उन्होने दादर और कोलाबा में काम करने वाले वर्कस को कहा है कि वो खाना इकट्ठा कर आजाद मैदान में बैठे किसानों तक पहुंचाएं। यहीं नहीं मुंबई के निवासी भी किसानों को वड़ा पाव, पानी और खाने पीने की बाकी चीजें मुहैया करवा रहे हैं।


इस बीच महाराष्ट्र सरकार के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन का कहना है कि महाराष्ट्र के किसान सरकार के पूरी तरह संतुष्ट हैं। महाजन ने  सानों के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों को राजनीति न करने की सलाह भी दी।


उधर सूत्रों के हवाले से खबर मिल रही है सरकार और किसानों के बीच जल्द ही समझौता हो जाएगा। सरकार किसानों को लिखित में आश्वासन देगी।