Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आवाज़ अड्डाः राम मंदिर पर आरएसएस अडिग, क्या फैसला लेगी सरकार!

प्रकाशित Mon, 12, 2018 पर 20:38  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भैयाजी जोशी ने कहा है कि अयोध्या में सिर्फ राम मंदिर बनेगा, और कुछ नहीं। इससे पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत भी बोल चुके हैं कि अयोध्या में सिर्फ राम मंदिर बनेगा और कुछ नहीं। इसी तरह समय-समय पर कई बीजेपी नेता भी ये बात कह चुके हैं। इससे पहले श्री श्री रविशंकर कह चुके हैं कि आम सहमित से मंदिर नहीं बना तो देश में सीरिया जैसे हालात बन जाएंगे। सभी जानते हैं कि इस वक्त अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। ऐसे में इस तरह के बयानों का आखिर क्या मतलब है। 


अयोध्या में राम मंदिर के लिए बीजेपी समेत संघ परिवार का संकल्प सबको पता है। लेकिन इस वक्त सुप्रीम कोर्ट में विवादित जमीन के मालिकाना हक पर सुनवाई चल रही है और जल्द ही फैसला आने की उम्मीद की जा रही है। ऐसे में संघ के सरकार्यवाह यानि जनरल सेक्रेटरी के पद पर चौथी बार चुने गए सुरेश भैय्याजी जोशी को भी कोर्ट के फैसले का इंतजार है। पर वो कह रहे हैं कि कह रहे हैं कि अयोध्या में सिर्फ राम मंदिर ही बनेगा और कुछ नहीं। इसके लिए प्रक्रिया अपनानी होगी और आम सहमति मुश्किल लगती है। 


पूर्ण बहुमत वाली मोदी सरकार कार्यकाल पूरा करने जा रही है और राम मंदिर उसका एक अहम चुनावी वादा था। ऐसे में अगर कोर्ट का फैसला अनुकूल नहीं आया तो क्या मोदी सरकार संसद में कानून लाकर राम मंदिर बनाएगी? मुस्लिम विद्वान मानते हैं कि ऐसा करने के लिए शाहबानो मामले का उदाहरण भी दिया जाता है, जो कि गलत है क्योंकि अयोध्या का मामला दो धर्मों से जुड़ा है और संसद में किसी धर्म को ठेस पहुंचाने वाला कानून लाना मोदी सरकार की भूल होगी।


कोर्ट में मामला चाहे जिस रफ्तार से चल रहा हो, लेकिन बाहर इस पर राजनीति गर्म है। हाल में अयोध्या मामले पर मध्यस्थता कर रहे श्री श्री रविशंकर ने ये कहकर बवाल खड़ा कर दिया कि मंदिर का मसला आपसी सहमति से नहीं निपटा तो देश में सीरिया जैसे हालात बन जाएंगे। सवाल उठता है कि कोर्ट का फैसला आने से पहले इस तरह के बयानों का क्या औचित्य है? क्या ये धीरे-धीरे दबाव बनाने की रणनीति है ताकि मोदी सरकार 2019 से पहले मंदिर का काम शुरू करवा सके, चाहे कोर्ट का फैसला कुछ भी आए हो? या फिर ये सिर्फ मुद्दे को गर्म रखने की रणनीति है?