Moneycontrol » समाचार » राजनीति

टक्कर: खेत छोड़ सड़कों पर क्यों आए किसान!

प्रकाशित Tue, 13, 2018 पर 08:48  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ पर एक और डिबेट शो टक्कर शुरू हो गया है। इसमें सोमवार से शुक्रवार रात 09:00 बजे आपसे जुड़े हुए मुद्दे उठाए जाते हैं और सरकार से पूछे जाते हैं तीखे सवाल। टीवी पर बहस तो बहुत होती रहती हैं लेकिन वहां तू-तू, मैं-मैं के बीच आपके मुद्दे दब जाते हैं और आपके हक की आवाज़ गुम हो जाती है। इसलिए टक्कर में उन चेहरों से सीधे सवाल किए जाते हैं जिनकी आपके प्रति सीधी जवाबदेही बनती है। टक्कर महज एक शो नहीं है ये 130 करोड़ भारतीयों की एक बड़ी मुहिम है।


टक्कर में आज बात हो रही है महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में उमड़े किसानों के हुजूम और उनके दर्द की। क्यों महाराष्ट्र के किसान अपने खेतों को छोड़कर सड़कों पर आ गए हैं।


मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के लिखित आश्वासन के बाद किसानों ने आंदोलन खत्म करने का फैसला किया है। कल करीब 3 घंटे तक चली बैठक के बाद मुख्यमंत्री फड़णवीस ने किसानों की 80 फीसदी मांगों को मान लिया सीएम ने कहा कि सरकार 6 महीने में किसानों के सभी मुद्दों को सुलझा लेगी। सरकार ने आदिवासी राशन कार्ड के लिए 3 महीने का वक्त मांगा। जबकि वन जमीन विवाद को सुलझाने के लिए सरकार ने 6 महीने का समय मांगा है। सरकार ने किसानों को उनके घर तक पहुंचने के लिए स्पेशल ट्रेनें भी चलाईं। एक ट्रेन भुसावल और दूसरी नागपुर तक जाएगी।


दरअसल पूर्ण कर्जमाफी और स्वामीनाथन आय़ोग की सिफारिशें लागू करवाने की मांग को लेकर करीब 30 हजार किसान मुंबई पहुंचे थे। बिना शर्त कर्ज माफी और बिजली बिल माफी, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करवाने, कृषि उत्पादों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी), जमीन की मांग, किसान लाभकारी मूल्य, जंगल अधिकार कानून और पेंशन योजना की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे।


महाराष्ट्र सरकार ने किसानों की ये मांगे करीब-करीब मान ली हैं। लेकिन किसानों का ये आंदोलन कई सवाल भी छोड़ गया है। इन्हीं सवालों पर हो रही है, आज की जोरदार टक्कर।