ओवरड्राइव: कैसे चुनें बेस्ट सेडान कार -
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ओवरड्राइव: कैसे चुनें बेस्ट सेडान कार

प्रकाशित Sat, 12, 2018 पर 18:07  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टोयोटा यारिस के लॉन्च होने के बाद सेडान सेगमेंट का बाजार फिर से हॉट हो गया है या यूं कहें कि यारिस के आने से इस सेगमेंट के खरीदारों को एक नया ऑप्शन मिल गया है। ऐसे में आप भी 8 से 14 लाख के बजट में कोई पेट्रोल सेडान खरीदने की सोच रहे हैं तो क्या टोयोटा यारिस सही ऑप्शन है या फिर पहले से मौजूद ह्युंदई वरना, होंडा सिटी और सियाज में सो कोई लेनी चाहिए। इसी दुविधा को दूर करने के लिए हम लेकर आएं हैं आपके लिए ये रिपोर्ट-सेडान कार में बेस्ट कौन?


सेडान यानी एक थ्री बॉक्स कार। बाजार में कई ऑप्शन हैं लेकिन हम आपके लिए लेकर आएं हैं चार ऐसी कार जो रिलायबल है और इन पर लोगों का भरोसा भी है। पहली कार है होंडा सिटी, इस कार का हमेशा से सेडान सेगमेंट में वर्चस्व रहा है। इसके पीछे वजह है प्रीमियम ब्रांड और बेहतर रीसेल वैल्यू। दूसरी कार मारुति सियाज है जो अपनी माइलेज, कॉस्ट ऑफ मेंटेनेंस और रिलायबल ब्रांड के नाम पर लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है। तीसरी कार ह्युंदई वरना है जो बेस्ट लग्जरी फीचर्स और स्टाइलिश लुक के दम पर लोगों को लुभा रही है। और चौथी कार है टोयोटा यारिस जो इस सेगमेंट के लिए नई है। फिलहाल इसकी बुकिंग हो रही है और अगले महीने से खरीदारों को मिलनी शुरू हो जाएगी।


ऐसे में जब भी हम  हम कार खरीदने जाते हैं तो सबसे पहले देखते हैं कि ये कार दिखने में कितनी अच्छी है और इनमें फीचर्स क्या-क्या हैं। तो चलिए सबसे पहले ये जान लेते हैं कि इन तीनों में लुक और फीचर्स के लिहाज से कौन सी कार है बेहतर।


लुक और स्टाइल के मामले में टोयोटा यारिस थोड़ी नई लगती है क्योंकि इसका डिजाइन इस सेगमेंट के बाकी कारों से अलग है। इसकी स्टाइलिंग प्रीमियम सेडान कारों की तरह है। फ्रंट ग्रिल बड़े साइज के हैं, हेडलैंप को इस तरह से शेप दिया गया है कि इसका आधा हिस्सा फ्रंट में और आधा साइड में। रियर हिस्से को कूपे कार की तरह शेप देने की कोशिश की गई है। इस तरह से लुक के लिहाज से इसकी रोड प्रेजेंस काफी अच्छी है। इंटीरियर में इसके डैश बोर्ड को वाटरफॉल डिजाइन दिया गया है। ये पहली कार है इस सेगमेंट की, जिसमें रियर पैसेंजर के लिए रूफ माउंटेड एसी वेंट दिए गए हैं। इंफोटेनमेंट सिस्टम में गेस्चर कंट्रोल फीचर दिए मिलते हैं। जरूरत पड़ने पर रियर सीट को सिक्स्टी फोर्टी रेसियो में फोल्ड भी कर सकते हैं।


ह्युंदई वरना अपने कॉम्पेटिटर के मुकाबले फिलहाल काफी अच्छी दिखती है। इसके पीछ वजह है कि इसे कूपे कार की तरह शेप दिया गया है क्योंकि वरना के डिजाइन में इलेंट्रा का स्टाइल दिखता है। इसी वजह से ये पहले के मुकाबले ज्यादा स्लीक और खूबसूरत लगती है। इंटीरियर में ज्यादा स्पेस मिले इसके लिए इसमें 2600 मिलीमीटर व्हीलबेस है लेकिन कूपे डिजाइन होने की वजह से रियर पैसेंजर के लिए हेडरूम थोड़ा कम है। खास कर जो लोग लंबे हैं उन्हें थोड़ी दिक्कत हो सकती है। इसमें कुछ फीचर्स ऐसे हैं जो इस सेगमेंट की किसी भी दूसरी कार में नहीं हैं, जैसे वेंटिलेटेड सीट और टॉप वेरिएंट में सनरूफ भी दिया गया है।


मारुति सियाज लुक के मामले में एक थ्री बॉक्स कार लगती है। लेकिन सामने से ये भव्य और शानदार अपील देती है। स्टाइल के मामले में जरूर ये थोड़ी पुरानी लगने लगी है लेकिन अभी भी इस डिजाइन के चाहने वाले काफी ज्यादा हैं। तभी तो बिक्री के मामले में कुछ दिन पहले होंडा सिटी को इसने पीछे छोड़ दिया था। लेकिन फिलहाल इसकी बिक्री काफी कम हो गई है। इंटीरियर में स्पेस की कोई कमी ना हो इसका पूरा ख्याल रखा गया है, खास कर रियर सीट में। सियाज के रियर सीट में जितना स्पेस मिलता है उतना होंडा सिटी और वरना में नहीं है और यही इसकी यूएसपी भी है।


होंडा सिटी अभी तक अपनी बोल्ड और स्टाइलिश लुक की वजह से इस सेगमेंट में सबसे पॉपुलर कार है। इंटीरियर में बैठते ही आपको कंफर्ट का एहसास होगा। चाहे आप फ्रंट सीट पर बैठे हों या रियर सीट पर। तभी तो कंफर्ट के मामले में सेडान सेगमेंट की बाकी कारों से होंडा सिटी बाजी मार लेती है। टच स्क्रीन एयर कंडिशन कंट्रोल, सनरूफ, क्रूज कंट्रोल जैसे फीचर तो इसमें है ही, साथ ही पैडल शिप्ट गियर का भी ऑप्शन है।


लेकिन इन तीनों कारें व्हीलबेस और ग्राउंड क्लियरेंस के पैरामीटर पर कौन बेहतर है चलिए वो भी देख लेते हैं। जितना ज्यादा व्हीलबेस उतना ज्यादा स्पेस तो व्हीलबेस के लिहाज से मारुति सियाज के मुकाबले होंडा सिटी और नई वरना पीछे है। जबकि सबसे कम व्हीलबेस टोयोटा यारिस का है। कुछ खरीदार ग्राउंड क्लियरेंस को भी देखते हैं। क्योंकि यहां की सड़कों के हालात देख कर लोग ज्यादा ग्राउंड क्लियरेंस वाली गाड़ी चाहते हैं तो ग्राउंड क्लियरेंस के लिहाज से टोयोटा यारिस पीछे रह जाती है। क्योंकि इसमें 133 मिलीमीटर ग्राउंड क्लियरेंस मिलता है। जबकि भारतीय सड़कों के लिहाज से कम से कम 150 मिलीमीटर का ग्राउंड क्लियरेंस होना चाहिए। सेडान कार लोग इसलिए भी लेतें है ताकी उन्हें लग्गेज के लिए ढेर सारा जगह मिले। तो बूट स्पेस के लिहाज से यहां पर भी टोयोटा यारिस पीछे रह जाती है क्योंकि इसमें 476 लीटर का बूट स्पेस मिलता है।


लुक और फीचर्स तो आपने देख ली, अब बारी आती है कि इन तीनों कारों की परफॉर्मेंस कैसी है और किस कार में ज्यादा पावर और माइलेज मिलता है। इंजन की बात करें तो टोयोटा यारिस को छोड़ दें तो इस सेगमेंट की सभी कारों में  पेट्रोल और डीजल इंजन के ऑप्शन मौजूद है। किसी में पावर कम है तो  किसी में माइलेज ज्यादा है। लेकिन हम यहां पर सिर्फ पेट्रोल इंजन की बात करेंगे क्योंकि अब लोगों का रूझान पेट्रोल कारों की तरफ ज्यादा होने लगा है। इन चारों कारों की  इंजन पावर की बात करें तो मारुति सियाज का ही इंजन कैपेसिटी कम है इसलिए इसमें पावर भी कम मिलता है। जबकि इस सेगमेंट की बाकी कारों में 100बीएचपी से ज्यादा पावर मिलता है। ऑटोमैटिक गियर चाहते हैं तो चारों कारों में मैन्युअल के साथ ऑटोमैटिक गियर का ऑप्शन है। लेकिन टोयोटा यारिस के सभी वेरिएंट में 7 स्पीड ऑटोमैटिक गियर का ऑप्शन दिया गया है।


अब आप इन चारों कारों की माइलेज भी जान लीजिए। तो टोयोटा यारिस में 17 किलोमीटर का माइलेज मिलता है। जबकि मारुति सियाज की माइलेज 20 किलोमीटर है। सेफ्टी की बात करें तो टोयोटा यारिस बाजी मार लेती है। क्योंकि यारिस में कुछ फिचर्स ऐसे हैं जो इस सेगमेंट की बाकी कारों में नहीं है। जैसे व्हीकल स्टेबिलिटी कंट्रोल, हिल स्टार्ट अस्सिट कंट्रोल के साथ 7 एयरबैग। जबकि वरना में 6 एयरबैग, एबीएस और ईबीडी फीचर्स दिए गये हैं। मारुति सियाज में दो एयरबैग, एबीएस और ईबीडी फीचर्स मिलते हैं। होंडा सिटी में भी 6 एयरबैग, एबीएस और ईबीडी जैसे फीचर्स मौजूद है।


आखिरी फैसला कीमत तय करती है। तो इन तीनों कारों की कीमत भी जान लीजिए। ह्युंदई वरना की कीमत करीब 8 लाख से 12 लाख 55 हजार रुपये के बीच है। मारुति सियाज की कीमत 8 लाख से 10 लाख 75 हजार रुपये है। होंडा सिटी की कीमत 8 लाख 90 हजार से 14 लाख रुपये और टोयोटा यारिस की कीमत 8 लाख 75 हजार से 14 लाख रुपये के बीच है। इस तरह से कीमत के लिहाज से मारुति सियाज बाजी मार लेती है लेकिन इसमें फीचर भी कम है।