टाटा स्टील को ₹10,187 करोड़ का मुनाफा -

टाटा स्टील को ₹10,187 करोड़ का मुनाफा

प्रकाशित Thu, 17, 2018 पर 06:59  |  स्रोत : Moneycontrol.com

वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में टाटा स्टील को 10,187 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है। वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में टाटा स्टील को 1,168 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में टाटा स्टील को 11,376 करोड़ रुपये का अतिरिक्त मुनाफा हुआ है।


वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में टाटा स्टील की आय 6.7 फीसदी बढ़कर 36,132 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में टाटा स्टील की आय 33,855.6 करोड़ रुपये रही थी।


साल दर साल आधार पर चौथी तिमाही में टाटा स्टील का एबिटडा 7,025 करोड़ रुपये से घटकर 6,498.7 करोड़ रुपये रहा है। सालाना आधार पर चौथी तिमाही में टाटा स्टील का एबिटडा मार्जिन 20.7 फीसदी से घटकर 18 फीसदी रहा है।


कंपनी के नतीजों पर सीएनबीसी-आवाज़ से बातचीत में टाटा स्टील के एमडी, टी वी नरेंद्रन ने कहा कि पहले के मुकाबले इस बार प्रदर्शन अच्छा रहा है। ऑटो, कंस्ट्रक्शन सेक्टर की हालत सुधरने का फायदा मिला है। भारत के अलावा यूरोपी में भी कारोबार का प्रदर्शन अच्छा रहा है। वहीं भूषण स्टील पर टी वी नरेंद्रन का कहना है कि भूषण स्टील के एसेट सबसे ज्यादा पसंद आए। भूषण स्टील के प्रोडेक्ट टाटा स्टील जैसे हैं और भूषण स्टील का प्लांट कलिंगनगर प्लांट के नजदीक है।


टी वी नरेंद्रन के मुताबिक पिछले कई महीनों से फंडिंग जुटाने की कोशिश जारी है। टाटा स्टील के कैश से भूषण स्टील को खरीदेंगे। भूषण स्टील के लिए 50 फीसदी फंडिंग कैश होगी, जबकि बाकी 50 फीसदी रकम नए कर्ज के तौर पर ली जाएगी। हालांकि भूषण पावर के लिए कोई सूचना नहीं मिली है और लिबर्टी की बोली के विरोध में एनसीएलटी में अर्जी दी है। आखिरी तारीख के बाद बोली लगाना कानूनी तौर पर गलत है।


टी वी नरेंद्रन ने कहा कि ग्लोबल मार्केट में स्टील की कीमतें स्थिर हुई हैं। चीन में स्टील का उत्पादन पहले के मुकाबले घटा है। दुनिया में ग्रोथ बढ़ने से स्टील की डिमांड बढ़ेगी। भारत में स्टील की कीमतें ज्यादा दिख रही हैं।