Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

निवेश के लिए आश्का गोराड़िया की सलाह

प्रकाशित Sat, 09, 2018 पर 18:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अपने सपनों को हकीकत में बदलना चाहते हैं। जानना चाहते हैं कि आपके इरादों का साथ आपकी जेब दे पाएगी या नहीं। अपने पर्सनल फाइनेंस की प्लानिंग खुद आमने सामने बैठ कर करवाना चाहते हैं तो आवाज़ पर मिलिए आश्का से। आश्का को आप एक मशहूर टीवी एक्ट्रेस के तौर पर तो जानते हैं लेकिन पर्सनल फाइनेंस की दुनिया में भी उन्होंने दर्शकों से एक नया नाता जोड़ लिया है।


गेट रिच विद आश्का में आज आश्का के साथ हैं चेन्नई से विकास पटनेजा जो एक आईटी प्रोफेशनल हैं। विकास की फाइनेंशियल सेहत की बात करें तो इनकी आमदनी 30 हजार रुपये महीने और खर्च 13 हजार रुपये महीने है।


विकास क्रेडिट कार्ड का जमकर इस्तेमाल करते हैं। ये डेबिट कार्ड के बजाय क्रेडिट कार्ड का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इनकी कमाई का बड़ा हिस्सा क्रेडिट कार्ड बिल चुकाने में जाता है। विकास हर महीने 1-1 हजार की 5 एसआईपी भी करते हैं। इसमें से 1 लार्ज, 2 स्माल और 2 मिड कैप फंड की हैं। विकास पर परिवार की कोई जिम्मेदारी नहीं है। इन्होंने अब तक लाइफ इंश्योरेंस नहीं लिया है। विकास को कंपनी से हेल्थ कवर मिला है।


विकास को आश्का की सलाह है कि वे अलग से हेल्थ इंश्योरेंस कराएं जिससे वे नौकरी ना रहने पर भी इंश्योर्ड रहेंगे। फाइनेंशियल प्लानिंग में कमाई के साथ खर्च का हिसाब रखना जरूरी होता है। अपने टारगेट के साथ समय और रकम भी तय करें। शादी के लिए रकम तय करें, फिर उसके मुताबिक निवेश करें। घर खरीद का लक्ष्य तय करते वक्त लोकेशन, रकम और भुगतान प्रक्रिया तय करें। फाइनेंशियल प्लानिंग में अपना लक्ष्य वास्तविक रखें।


इस वक्त बिजनेस को लक्ष्य ना बनाएं। बिजनेस और उसमें लगने वाली पूंजी तय कर ही लक्ष्य बनाएं। अचानक आने वाले खर्चों के लिए इमरजेंसी फंड बनाएं। इमरजेंसी फंड होने से इन्वेस्टमेंट नहीं रोकना पड़ेगा। अपनी शादी के लक्ष्य के लिए लिक्विड फंड में पैसे लगाएं। किसी भी निवेश से पहले क्रेडिट कार्ड का उपयोग कम करें। क्रेडिट कार्ड के खर्च का हिसाब रखना जरूरी है। रिटायरमेंट के लिए एनपीएस में निवेश करें।