Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

किसानों के लिए सरकार का बड़ा तोहफा

प्रकाशित Wed, 04, 2018 पर 12:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कैबिनेट ने आज धान, दाल, मक्का जैसी खऱीफ फसलों के लिए एमएसपी लागत का डेड़ गुना करने का फैसला लिया है। एमएसपी यानि मिनिमम सपोर्ट प्राइस  वो कीमत होती है जिसपर सरकार किसानों से अनाज खरीदती है। किसानों के लिए फसलों पर 50 फीसदी मुनाफा देने के मकसद से इस बार एमएसपी में रिकॉर्ड बढ़ोतरी का फैसला लिया गया है। अब अनाज की लागत के आकलन के लिए ए2+एफएल फॉर्मूला अपनाया जाएगा। ए2+एफएल फॉर्मूले के तहत फसल की बुआई पर होने वाले कुल खर्च और परिवार के सदस्यों की मजदूरी शामिल होगी।


कैबिनेट ने आज धान की एमएसपी 200 रुपये बढ़ाकर 1750-1770 रुपये प्रति क्विंटल, मक्के की एमएसपी 1425 रुपये से बढ़ाकर 1700 रुपये प्रति क्विंटल, अरहर की एमएमसी 5450 रुपये से बढ़ाकर 5675 रुपये प्रति क्विंटल, उड़द की एमएसपी 5400 रुपये से बढ़ाकर 5600 रुपये प्रति क्विंटल करने, मूंग की एमएसपी 5575 रुपये से बढ़ाकर 6975/ रुपये प्रति क्विंटल, मूंगफली की एमएसपी 4450 रुपये से बढ़ाकर 4890 रुपये प्रति क्विंटल, सूरजमुखी की एमएसपी 4100 रुपये से बढ़ाकर 5388 रुपये प्रति क्विंटल, सोयाबीन की एमएसपी 3050 रुपये से बढ़ाकर 3399 रुपये प्रति क्विंटल और कपास की एमएसपी 4020 रुपये से बढ़ाकर 5450 रुपये प्रति क्विंटल करने का फैसला लिया है।


सबसे ज्यादा रागी की एमएसपी 52.5 फीसदी बढ़ाई गई है। ज्वार की एमएसपी में 42 फीसदी, बाजरा में 36.8 फीसदी और मूंग में 25.1 फीसदी बढ़ोतरी का फैसला लिया गया है। लेकिन अरहर की एमएसपी में सिर्फ 4.1 फीसदी और उड़द में 3.7 फीसदी बढ़त का फैसला लिया गया है।


इसके अलावा आज कैबिनेट ने उच्च शिक्षा के लिए फंडिंग को भी मंजूरी दे दी है। अब उच्च शिक्षा के लिए एजेंसियों को फंड मिलेगा। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 2022 तक उच्च शिक्षा पर 1 लाख करोड़ रुपये तक की फंडिंग को मंजूरी मिली है।


एमएसपी पर खाद्य मंत्री रामविलास पासवान का कहना है सरकार ने एमएसपी बढ़ाने के प्रधानमंत्री मोदी के वादे को पूरा किया है।


कमोडिटी गुरू जी चंद्रशेखर के मुताबिक खरीफ फसलों का एमएसपी बढ़ाने का सरकार का फैसला अच्छा है लेकिन इससे किसान को अच्छी कीमत मिलेगी इसकी कोई गारंटी नहीं है।


राजनाथ सिंह ने कैबिनेट के फैसले को ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि किसानों की आय को दोगुना करने की दिशा में ये फैसला हुआ है।