Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

इकोनॉमी को दोहरा झटका; महंगाई बढ़ी, आईआईपी घटी

प्रकाशित Fri, 13, 2018 पर 07:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मई में ग्रोथ की रफ्तार धीमी पड़ गई है। आईआईपी ग्रोथ अनुमान से खराब रही है। अनुमान 3.9 फीसदी था लेकिन ये सिर्फ 3.2 फीसदी पर अटक गई। वहीं अप्रैल में आईआईपी ग्रोथ 4.8 फीसदी रही थी।


मैन्युफैक्चरिंग का प्रदर्शन सबसे कमजोर रहा है। अप्रैल के मुकाबले ये 5.2 फीसदी से गिरकर 2.8 फीसदी रहा है। कैपिटल गुड्स का प्रदर्शन भी काफी कमजोर रहा है। महीने दर महीने आधार पर मई में कैपिटल गुड्स की ग्रोथ 13 फीसदी से घटकर 7.6 फीसदी रही है। हालांकि महीने दर महीने आधार पर मई में माइनिंग की ग्रोथ 5.1 फीसदी से बढ़कर 5.7 फीसदी रही है। इसके अलावा महीने दर महीने आधार पर मई में इलेक्ट्रिसिटी की ग्रोथ 2.1 फीसदी से बढ़कर 4.2 फीसदी रही है।


थर्मैक्स के एमडी, एम एस उन्नीकृष्णन का मानना है कि भले ही मई में आईआईपी ग्रोथ में थोड़ी निराशा देखने को मिली है लेकिन जून से ये बेहतर होती दिखाई देगी। वहीं इंडिया रेटिंग्स के चीफ इकोनॉमिस्ट, देवेंद्र कुमार पंत का मानना है कि ग्रोथ और महंगाई दोनों की वजह से रिजर्व बैंक पर ब्याज दरों को लेकर दबाव रहेगा।


जहां इकोनॉमी ग्रोथ की रफ्तार कम हुई है वहीं दूसरी तरफ महंगाई ने आम आदमी को झटका दिया है। जून में रिटेल महंगाई 4.87 फीसदी से बढ़कर 5 फीसदी रही है। दाल, फ्यूल और बिजली के साथ कपड़े, जूते भी मंहगे हुए हैं। हालांकि खाद्य महंगाई 3.1 फीसदी से घटकर 2.91 फीसदी रही है। इसके अलावा सब्जियों की महंगाई 8.04 फीसदी से घटकर 7.8 फीसदी रही है।