Moneycontrol » समाचार » रेल बजट

लोकलुभावन चाशनी में डूबा नया रेल बजट

रेल बजट में लगातार आठवें साल यात्री किराया नहीं बढ़ा और माल भाड़ा भी नहीं बढ़ाया गया।
अपडेटेड Feb 26, 2011 पर 14:42  |  स्रोत : Moneycontrol.com

25 फरवरी 2011

 


सीएनबीसी आवाज़ के शिशिर सिन्हा



ममता दी ने फिर एक बार ममता दिखायी। लोकलुभावन की चाशनी में डूबा नया रेल बजट आया। लगातार आठवें साल यात्री किराया नहीं बढ़ा। महंगाई ना बढ़े, इसलिए माल भाड़ा भी नहीं बढ़ाया गया। लेकिन नयी गाड़ियां, नए लाइन और नयी सुविधाओं का ऐलान करने में कोई कंजूसी नहीं हुई। रेलवे से जुड़े 13 लाख कर्मचारियों ही नहीं, उनके मां-पिताजी और बच्चों की ही नहीं, पत्रकारों की भी सुध ली गयी। लेकिन रेलवे की वित्तीय सेहत कैसे सुधरेगी, इसका कोई जवाब नहीं मिला।



किराया ज्यादा क्यों नहीं बढ़ा, इस पर दलील है कि 5 फीसदी किराया बढ़ाकार 1000-1200 करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई नहीं होने वाली, लेकिन महंगाई से दबी आम यात्री के जेब पर बोझ और बढ़ेगा, ये सही नहीं। लिहाजा केवल सामान्य दर्जे ही नहीं, ऊचे दर्जे में सफर करने वालों को फिर से राहत मिल गयी है।



वैसे ममता दी ने एक महिला होने के नाते बुजुर्ग महिलाओं की सुध ली है। बुजुर्गों के लिए यात्री किराये में छूट के लिए उम्र सीमा 60 साल से घटाकर 58 साल कर दी गयी है। वैसे ममता दी एक बात बताएं, बुजुर्ग पुरुषों ने भला आपको क्या नुकसान पहुंचाया जो आपने उन्हे रियायत देना जरूरी नहीं समझा। हालांकि एक बात अच्छी है कि 58 साल की बुजुर्ग महिला या फिर 60 साल का बुजुर्ग पुरूष, दोनों को ही  किराये में 30 के बजाए 40 फीसदी तक छूट मिलेगी।



यात्रियों की सहूलियत को देखें तो इंटरनेट के जरिए टिकट बुक कराने से थोड़ा फायदा मिलेगा। मसलन एसी क्लास के टिकट के लिए ई टिकट चार्ज 10 रुपये होगा, वहीं नॉन एसी क्लास के ई टिकट पर चार्ज पांच रुपये होगा। आईआरसीटीसी के चर्चित वेबसाइट की जगह नई वेबसाइट पर टिकट बुक कराने की सुविधा मिलेगी। आईआरसीटीसी का क्या होगा, पता नहीं। वैसे इससे रेलवे कैटरिंग पहले ही ली जा चुकी है, अब टिकटों की बुकिंग भी नहीं रहे।



रेल बजट में देश भर को नयी गाड़ियों की सौगात भी मिली है। 56 नए एक्सप्रेस ट्रेन का ऐलान हुआ है। पश्चिम बंगाल ही नहीं, उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, केरल समेत कई राज्यों को नयी गाड़ियां मिली। तीन नयी शताब्दी ट्रेन शुरु करने की बात की गयी, वहीं दिल्ली-जयपुर और मुंबई-अहमदाबाद के बीच एसी डबल डेकर ट्रेन सेवा शुरु होगी। 9 दुरंतों भी शुरु करने का ऐलान हुआ है। खास ट्रेनों पर सुपर एसी क्लास की सुविधा मिलेगी। आप इस सुपर एसी क्लास को एयरलाइंस के फर्स्ट क्लास जैसा समझ सकते हैं। हो सकता है कि एय़रलाइंस के लगातार बढ़ते किराये के बीच यात्रियों को लुभाने में मदद मिले।



बढ़ती आबादी से दबे मुंबई के लाइफलाइन को खास मिल रही है। कुल 47 नए लोकल शुरु होंगे, वही मौजूदा लोकल ट्रेनें लंबी हो जाएंगी। अब इनमें 9 के बजाए 12 डब्बे होंगे।



नयी गाड़ियां आ गयी, मौजूदा ट्रेनों के फेरे भी बढ़ेंगे, जाहिर है इसके लिए पटरियां चाहिए। 2011-12 में 1300 किलोमीटर नयी पटरियां बिछेंगी, 850 किलोमीटर से ज्यादा रास्ते पर एक के बजाए दो ट्रैक होंगे। मौजूदा पटरियां दुरुस्त हो, इस पर तो कुछ नहीं कहा गया, लेकिन ये जरूर कहा गया कि 160 से 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गाड़ी चले, इसकी संभावनाएं तलाशी जाएंगी। अभी सबसे अधिक गति 140 किलोमीटर प्रति घंटे की है। चुनिंदा रास्तों पर राजधानी और शताब्दी को इस तरह की गति हासिल करने की इजाजत है।


अब नयी गाड़ियां है, नयी सुविधाएं है, नयी पटरियां है तो खर्चें भी उस हिसाब से तो बढ़ेंगे ही। रेलवे ने अब तक के सबसे बड़े प्लान आउटले का एलान किया है। मतलब ये कि 2011-12 में 57,600 करोड़ रुपए से भी ज्यादा का खर्च होगा। ये साफ नहीं है कि इसमें से कितनी रकम पटरियों को लंबे समय तक दुरुस्त रखने पर खर्च होगी। खर्चे से निपटने के लिए बांड लाने का भी प्रस्ताव रखा गया है लेकिन अब भी सबसे बड़ा सवाल ये ही है कि ऐसे बांड बढ़ते खर्च का कितना हिस्सा पूरा कर सकते हैं।



छठे वेतन आयोग की सिफारिशों पर अमल से दो साल में 55,000 करोड़ रु का अतिरिक्त खर्च बढ़ा है। ममता दी अब 2 लाख से भी ज्यादा नई भर्तियों की बात कर रही हैं मतलब ये कि तनख्वाह, भत्ते और पेंशन पर खर्च और बढ़ेगा। अब ऐसे में ममता दीदी की नजर प्रणव मुखर्जी पर होगी कि प्रणव बाबू रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च का कितना हिस्सा बजटीय सहायता के जरिए दे सकते हैं। लेकिन प्रणव बाबू की परेशानी भी कम नहीं। कमाई अगले साल तो बढ़ने वाली नहीं ज्यादा, खर्चे पहले ही अतिरिक्त हैं, नए खर्च का बोझ उठाने की स्थिति नहीं। ऐसे में ममता दी की ममता रेलवे पर भारी पड़ सकती है।



ममता एक्सप्रेस   

ना तो बढ़ा यात्री भाड़ा और ना ही माल भाड़े में कोई बदलाव
नई सुपर एसी क्लास शुरू होगा
56 नई एक्सप्रेस ट्रेनें, 3 नई शताब्दी, 9 दुरंतो ट्रेनें शुरू की जाएंगी
सीनियर सिटीजन के लिए छूट 30% से बढ़ाकर 40 फीसदी
जयपुर-दिल्ली और अहमदाबाद-मुंबई रूट्स पर एसी डबल डेकर सेवा
ई-टिकटिंग के लिए नया पोर्टल जल्द लांच, बुकिंग चार्ज कम होंगे, एसी के लिए 10 रु और दूसरे क्लास के लिए 5 रु चार्ज
देशभर के लिए मल्टीपर्पस स्मार्ट कार्ड ‘गो इंडिया’ लाया जाएगा
236 और स्टेशनों के आदर्श स्टेशन के तहत अपग्रेड किया जाएगा
2011-12 रेलवे के लिए ग्रीन एनर्जी का साल
रेलवे के 8 जोन के लिए एंटी कोलिजन डिवाइस को मंजूरी
जीपीएस आधारित ‘फॉग सुरक्षित’ उपकरण लगाए जाएंगे
देशभर में सिक्योरिटी हेल्पलाइन के लिए एक नंबर
शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए छूट राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में भी मिलेगी