Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टीआरपी से भी करा सकते हैं रिटर्न फाइल

करदाता सर्टिफाइड टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स (टीआरपी) से अधिकतम 250 रुपए का शुल्क अदा कर अपना रिटर्न फाइल करवा सकते हैं।
अपडेटेड Jul 23, 2011 पर 12:26  |  स्रोत : Moneycontrol.com

23 जुलाई 2011


सीएनबीसी आवाज

सीबीडीटी ने व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाताओं के रिटर्न फाइल करने की लागत कम करने एवं प्रक्रिया को आसान बनाने के उद्देश्य से 28 नवंबर 2006 को अधिसूचना जारी कर 1 दिसंबर 2006 से टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स स्कीम 2006 की शुरुआत की है। इस स्कीम के लागू होने के बाद कुछ अपवादों को छोड़कर व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता सर्टिफाइड टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स (टीआरपी) से अधिकतम 250 रुपए का शुल्क अदा कर अपना रिटर्न फाइल करवा सकते हैं। इस स्कीम की विस्तृत जानकारी इस प्रकार है :-



कौन ले सकता है इस स्कीम का लाभ : व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता (जिन्हें इस स्कीम में एलिजिबल पर्सन कहा गया है) टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स स्कीम 2006 का लाभ ले सकते हैं। इसके कुछ अपवाद हैं, जो निम्न प्रकार हैं :



(1) 
यदि व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता ऑडिट की श्रेणी में आते हों।



(2)
यदि वित्त वर्ष में व्यक्ति भारत में निवासी नहीं रहा हो।



(3) 
यदि व्यक्तिगत या एचयूएफ करदाता अपना रिवाइज रिटर्न फाइल कर रहे हों और उन्होंने अपना मूल रिटर्न सर्टिफाइड टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स से दाखिल नहीं करवाया हो।



(4) 
यदि व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता को धारा 142 (1) (i) या धारा 148 या धारा 153 (छ) के नोटिस के तहत रिटर्न फाइल करना हो।


कितना शुल्क अदा करना होगा : शुल्क की गणना करने के उद्देश्य से करदाता को नए एवं पुराने करदाता की दो श्रेणी में बांटा गया है।



(
अ) नए करदाता : वह करदाता जो अपना पहला, दूसरा या तीसरा रिटर्न फाइल कर रहे हैं, वे नए करदाता की श्रेणी में आएंगे। इनके लिए शुल्क की गणना निम्न प्रकार होगी :



(1)
पहला रिटर्न दाखिल करने पर : यदि एलिजिबल पर्सन अपना पहला रिटर्न दाखिल कर रहा है तो उसे 250 रुपए में से चुकाए गए टैक्स की राशि का 3% घटा देने के बाद शेष राशि शुल्क के रूप में अदा करनी होगी एवं यदि टैक्स पर 3% की राशि 250 रुपए से अधिक है तो कोई शुल्क अदा नहीं करना होगा।



(2)
दूसरा रिटर्न दाखिल करने पर : यदि एलिजिबल पर्सन अपना दूसरा रिटर्न दाखिल कर रहा है तो उसे 250 रुपए में से चुकाए गए टैक्स की राशि का 2% घटा देने के बाद शेष राशि शुल्क के रूप में अदा करनी होगी एवं यदि टैक्स पर 2% की 250 रुपए से अधिक है तो कोई शुल्क अदा नहीं करना होगा।



(3)
तीसरा रिटर्न दाखिल करने पर : यदि एलिजिबल पर्सन अपना तीसरा रिटर्न दाखिल कर रहा है तो उसे 250 रुपए में से चुकाए गए टैक्स की राशि में से 1% घटा देने के बाद शेष राशि अदा करनी होगी एवं यदि टैक्स पर 1% की राशि 250 रुपए से अधिक है तो कोई शुल्क अदा नहीं करना होगा।



(
ब) पुराने करदाता : वह करदाता जो पूर्व में 3 या अधिक रिटर्न दाखिल कर चुके हैं, को अपना रिटर्न सर्टिफाइड टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स से दाखिल करवाने की दशा में 250 रुपए अदा करने होंगे।



ध्यान रखने योग्य बातें :

(1) 
यह सुनिश्चित कर लें कि इस स्कीम के तहत आपको रिटर्न फाइल करने की पात्रता है।



(2) 
रिटर्न पर हस्ताक्षर करने के पूर्व रिटर्न में दाखिल जानकारी की जांच कर लें।



(3) 
टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स से अदा किए गए शुल्क की रसीद अवश्य लें।



(4) 
रिटर्न फाइल होने के उपरांत रिटर्न की एक कॉपी अपने रिकॉर्ड के लिए अवश्य लें।



कहां से प्राप्त करें अपने नजदीकी टीआरपी की जानकारी : आप अपने नजदीकी सर्टिफाइड टैक्स रिटर्न प्रिपेरर्स (टीआरपी) की जानकारी www.trpscheme.com से प्राप्त कर सकते हैं।



स्कीम के संबंध में अधिक जानकारी : इस स्कीम के संबंध में अधिक जानकारी www.trpscheme.com या टोल फ्री नंबर 1800-10-23738 से भी प्राप्त की जा सकती है।


 



यह लेख अरिहंत कैपिटल मार्केट के चीफ फाइनेंशियल प्लानर उमेश राठी ने लिखा है। umesh.rathi@arihantcapital.com पर उमेश राठी से संपर्क किया जा सकता है।