बच्चों की शिक्षा के लिए प्लानिंग करके ही निवेश करें -
Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

बच्चों की शिक्षा के लिए प्लानिंग करके ही निवेश करें

प्रकाशित Sat, 10, 2011 पर 09:57  |  स्रोत : Moneycontrol.com

10 सितंबर 2011

सीएनबीसी आवाज़



सॉफ्टवेयर कंपनी में प्रोग्रामर राकेश शर्मा (उम्र 28 वर्ष), उनकी पत्नी शिल्पा शर्मा (उम्र 27 वर्ष) को हाल ही में बेटा हुआ। राकेश एवं शिल्पा अपने बेटे के सुनहरे भविष्य के लिए अभी से निवेश करने की योजना बना रहे हैं। इसी बीच उनकी मुलाकात इंश्योरेंस एजेंट से हुई जिसने उन्हें चाइल्ड प्लान लेने की सलाह दी।

एजेंट ने उन्हें बताया कि इस प्लान में उन्हें ग्यारंटेड रिटर्न के साथ-साथ बेटे का इंश्योरेंस कवर भी मिलेगा। साथ ही अनहोनी (राकेश की मृत्यु) की दशा में उनके परिवार को प्रीमियम भी अदा नहीं करना पड़ेगी। राकेश को प्रथम दृष्ट्या प्लान अच्छा लगा एवं राकेश ने इस प्लान की चर्चा अपने मित्र अजय से की। अजय ने राकेश को फाइनेंशियल प्लानर से मिलने का सुझाव दिया।

राकेश और शिल्पा अजय के सुझाव पर फाइनेंशियल प्लानर से मिले। फाइनेंशियल प्लानर को उन्होंने चाइल्ड प्लान लेने की योजना के बारे में बताया। फाइनेंशियल प्लानर ने राकेश और शिल्पा से कुछ सवाल किए। फाइनेंशियल प्लानर के सवाल एवं राकेश के जवाब निम्न प्रकार थे -

फाइनेंशियल प्लानर- बेटे की पढ़ाई के लिए कितने सालों बाद कितने रुपयों की आवश्यकता है?

राकेश- 21 साल बाद लगभग 30-32 लाख की

फाइनेंशियल प्लानर- आपने 30-32 रु. लाख की रकम कैसे तय की?

राकेश- आज उच्च शिक्षा में लगभग 10 लाख रुपए का खर्च आता है एवं बढ़ती हुई महँगाई के हिसाब से हमने 21 वर्ष बाद 30-32 लाख का अनुमान लगाया है।

फाइनेंशियल प्लानर- सामान्यतः हम बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए रकम की गणना 10% महँगाई दर के हिसाब से करते हैं। क्या आप इससे सहमत हैं?

राकेश- हाँ। पिछले 5-7 सालों में यह इससे भी अधिक रही है।

फाइनेंशियल प्लानर - यदि आज उच्च शिक्षा का खर्च 10 लाख रु. है तो 21 साल बाद 10% महँगाई दर से आपको 74,00,250 रु. की आवश्यकता होगी।

राकेश- क्या? 74,00,250 रु

फाइनेंशियल प्लानर- जी हां, 74,00,250 रु.

राकेश- परंतु इस चाइल्ड प्लान में सालाना 75 हजार रुपए की प्रीमियम भरने के बाद भी हमें 30-32 लाख रु. ही मिल पाएँगे। हम यदि निवेश की राशि बढ़ाते भी हैं तो हम सालाना 1 लाख रुपए से अधिक निवेश नहीं कर सकते हैं। अब हमें क्या करना चाहिए? आप ही कोई रास्ता बताइए।

राकेश की परिस्थितियों, आवश्यकताओं, जीवन के लक्ष्य एवं जोखिम क्षमता को समझकर निम्न सलाह दी-

* 50% इक्विटी म्युचुअल फंड, 35% रिकरिंग डिपॉजिट एवं 15% गोल्ड में निवेश की सलाह दी जिस पर लंबी अवधि में पोस्ट टैक्स रिटर्न 10.5% बैठने का अनुमान लगाया।

* 21 वर्ष बाद 74 लाख रुपए की आवश्यकता के लिए 10.5% सालाना रिटर्न के हिसाब से 98500 रुपए सालाना निवेश करने की सलाह दी।

* अनहोनी (राकेश की मृत्यु) की दशा में बच्चे का भविष्य सुरक्षित रहे, इस उद्देश्य से 50 लाख रुपए का ऑनलाइन टर्म प्लान लेने की भी सलाह दी जिसकी सालाना प्रीमियम मात्र 7000 रुपए होगी।

* साथ ही वसीयत भी लिखने की सलाह दी।

यदि आप भी अपने बच्चों का भविष्य सुरक्षित करना चाहते हैं तो केवल चाइल्ड प्लान के भरोसे न रहें एवं सुचारु रूप से फाइनेंशियल प्लानिंग करें। फाइनेंशियल प्लानिंग करने में आप स्वयं सक्षम नहीं हों तो सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर सीएफपी से संपर्क करें।

जरा सोचिए!

बढ़ती हुई महँगाई के इस दौर में क्या चाइल्ड प्लान लेकर हम अपने बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए पर्याप्त राशि जमा कर पाएँगे?

जब प्रत्येक व्यक्ति की परिस्थितियाँ, आवश्यकताएँ, जीवन के लक्ष्य और जोखिम क्षमता अलग-अलग हैं तो क्या कोई एक प्लान सभी के लिए बेहतर हो सकता है?

यह लेख अरिहंत कैपिटल मार्केट के चीफ फाइनेंशियल प्लानर उमेश राठी ने लिखा है।umesh.rathi@arihantcapital.com पर उमेश राठी से संपर्क किया जा सकता है।