Moneycontrol » समाचार » बीमा

बीमा खरीदना क्यों जरूरी !

एक दिन हमारे खाता विभाग ने यह कहकर मुझे परेशान कर दिया कि बचत बीमा में निवेश के सबूत पेश नहीं करने के कारण मुझे अगले दो माह तक वेतन नहीं मिलेगा।
अपडेटेड Apr 10, 2010 पर 13:31  |  स्रोत : Hindi.in.com

लोवई नवलखी


एक दिन हमारे खाता विभाग ने यह कहकर मुझे परेशान कर दिया कि बचत बीमा में निवेश के सबूत पेश नहीं करने के कारण मुझे अगले दो माह तक वेतन नहीं मिलेगा। मैंने बीमा एजेंट से तुरंत एक पालिसी देने को कहा। शर्त यही थी कि रसीद एक-दो दिन में मिल जानी चाहिए।
उसके बीस साल बाद।


मुझे बीमा कंपनी से 60,000 रुपए की रकम मिली। मैंने हिसाब लगाया कि पिछले दो दशकों में मैं दो लाख रुपए भर चुका था। फिर यह क्या हुआ ?

मैंने पाया किया कि मनी बैक स्कीम खरीदी थी, जिसने मुझे हर पांच साल में 50,000 रुपए वापस किए। क्या मैंने इस धन का इस्तेमाल अपनी सेवानिवृत्ति में किया ?

मैंने पाया कि इसी प्रीमियम में बेहतर बीमा कवर की योजना खरीदी जा सकती थी। अब अतीत तो बदला नहीं जा सकता। यह काम अब आपको करना चाहिए-


1. पर्याप्त बीमा बहुत जरूरी है। बीमा कवर से मत बचिए।


2. टैक्स से बचने के लिए बीमा का इस्तेमाल कीजिए। भविष्य में आपके पास एकत्र होने वाले धन के आधार पर बीमा व पालिसी का चुनाव कीजिए।


3. किसी भी बीमा पालिसी में छुपे राइडर पर ध्यान दें। बीमा में गंभीर रोगों को कवर किया है या नहीं, इस पर ध्यान दें। इसमें कैंसर, ह्रदय रोग और ह्रदयाघात जैसी बीमारियों के कवर देख लें।


4. इन राइडर की उपेक्षा केवल इसलिए नहीं करे कि जिस कंपनी में आप काम कर रहे हैं, वह बीमा करवा रही है।

अगर आपने नौकरी छोड़ दी और नए एसाइनमेंट पर चले गए तो ?


5. वित्तीय रूप से सक्षम बनें। स्वास्थ्य की जांच के लिए नियमित डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

6. जीवन स्थिर नहीं है। अपने बीमा कवर की भी समीक्षा करते रहिए।