Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस की उलझनों से जुडे़ सवाल-जवाब

प्रकाशित Sat, 17, 2011 पर 09:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

17 दिसंबर 2011

सीएनबीसी आवाज़



माय इंश्योरेंस क्लब डॉटकॉम के उप-संस्थापक मनोज असवानी बता रहे हैं इश्योरेंस से जुड़ी उलझनों का हल।


सवाल: मैंने मेटलाइफ स्मार्टर प्रीमियम मल्टीप्लायर में अब तक 90 हजार रुपये डाले हैं। लेकिन फंड की वैल्यु अब सिर्फ 83 हजार रुपये है। पॉलिसी में बने रहूं या निकल जाऊं?


मनोज असवानी: मेटलाइफ स्मार्टर प्रीमियम मल्टीप्लायर यह एक यूलिप प्लान है। किसी भी यूलिप प्लान में लंबे नजरिए की जरूरत होती है। वहीं बाजार उतार-चढ़ाव का असर प्लान पर है। फंड वैल्यु निगेटिव हो गई है तो प्लान ने निकलना सही फैसला होगा।


सवाल: मेरी उम्र 56 साल है, परिवार में पत्नी और एक बेटा है। मेरे पास न्यू इंडिया अश्योरेंस का हेल्थ प्लान पिछले 16 साल से है। लेकिन कंपनी ने अचानक प्रीमियम बढ़ा दिया है। क्या पॉलिसी से निकलना सही रहेगा?


मनोज असवानी: उम्र बढ़ने के साथ-साथ पॉलिसी का प्रीमियम भी बढ़ते जाता है। न्यू इंडिया अश्योरेंस के साथ 16 साल से बने हैं तो प्लान से निकलने का फैसला गलत होगा। वहीं सुविधा के लिए कम कवर वाला दूसरा प्लान ले सकते हैं।


सवाल: पॉलिसी लेने पर एक साल के भीतर ही क्लेम किया है तो क्या अगले साल रिन्युवल के समय पॉलिसी का प्रीमियम बढ़ सकता है?


मनोज असवानी: पहले इंश्योरेंस कंपनियां ऐसा करती थी। पॉलिसी के पहले साल ही क्लेम करने पर अगले साल पॉलिसी का  प्रीमियम बढ़ जाता था। लेकिन अब कंपनियां 5 साल तक छूट देती हैं। पॉलिसी लेने पर 5 साल तक क्लेम करने पर प्रीमियम नहीं बढ़ता है।


वीडियो देखें