Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

पंजाब: चुनावी भंवर में फंसा चावल

पंजाब में 15,000 करोड़ रुपये का धान चुनाव के भंवर मे फंसकर रह गया है।
अपडेटेड Jan 09, 2012 पर 10:22  |  स्रोत : Moneycontrol.com

9 जनवरी 2012

सीएनबीसी आवाज़



पंजाब में 15,000 करोड़ रुपये का धान चुनाव के भंवर मे फंसकर रह गया है। मिलिंग के नियमों में राहत न दिए जाने की वजह से अब तक सिर्फ 10 फीसदी धान की ही मिलिंग हो पाई है।


पंजाब की मिलों में पड़े धान में से 32 लाख टन चावल की मिलिंग हो जानी चाहिए थी। लेकिन अब तक सिर्फ 9 लाख टन की ही मिलिंग हो पाई है। एफसीआई ने मिलों के सामने 3 फीसदी टूटन और 3 फीसदी ही कलर की शर्त रखी है।


मिल मालिकों का कहना है कि यह मात्रा 4 फीसदी होनी चाहिए। पिछले 5 साल से खाद मंत्रालय और मिलों के बीच चावल टूटने और कलर चेंज को लेकर यही खेल होता आ रहा है। राज्य सरकार के दबाव के बाद मात्रा बढा कर 4 फीसदी कर दी जाती है। लेकिन इस साल चुनाव आचार संहिता के कारण मामला फंस गया है।


इस मामले पर पंजाब राइस मिलर वेलफेयर एसोसिएशन ने केन्द्रीय खाद मंत्री से बात की है लेकिन केंद्र ने भी फिलहाल कोई राहत नही दी है। वहीं पूरे ममले पर जल्दी ही कोई अहम कदम नहीं उठाया जाता है तो धान खराब होने का खतरा है। वहीं सरकार द्वारा लाए जाने वाले खाद्य सुरक्षा कानून लागू करने में भी परेशानी खड़ी हो सकती है।


वीडियो देखें