Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

छोटी अवधि का निवेश होगा महंगा

योजना के परिपक्व (मेच्योरिटी) होने की समयसीमा के आधार पर एक्जिट लोड लगेगा।
अपडेटेड Jul 07, 2010 पर 14:19  |  स्रोत : Hindi.in.com

07 जुलाई 2010



सीएनबीसी आवाज़



छोटी अवधि के निवेश के विकल्प के रुप में जाने जानेवाली लिक्विड प्लस स्कीम अब महंगे निवेश का पर्याय बन जाएगी।



दरअसल एक अगस्त से इनमें एक्जिट लोड (निकासी प्रभार) लगाने की योजना बनाई जा रही है। योजना के परिपक्व (मेच्योरिटी) होने की समयसीमा के आधार पर एक्जिट लोड लगेगा।



बताना चाहेंगे कि अभी 180 दिन से ज्यादा की मेच्योरिटी पर लगता है मार्क टू मार्केट  और अब 90 दिन से ज्यादा की मेच्योरिटी वाली स्कीम पर लगेगा मार्क टू मार्केट, ऐसे में लिक्विड प्लस स्कीम पर एक्जिट लोड लगाने की योजना अमल में आ रही है।



लिक्विड प्लस स्कीम पर अब तक एक्जिट लोड नहीं लगता था क्योंकि इन योजनाओं की परिपक्वता 90 दिन से ज्यादा होती थी। गौरतलब है कि बैंक, बड़ी कंपनियां और एचएनआई लिक्विड प्लस योजनाओं में पैसा लगाते हैं।