Moneycontrol » समाचार » बजट प्रतिक्रियाएं

वित्तीय घाटे के लक्ष्य से उद्योग जगत चिंतित

बजट में वित्त मंत्री द्वारा वित्त वर्ष 2013 में 5.1 वित्तीय घाटे के लक्ष्य पर उद्योग जगत की मिली-जुली प्रतिक्रिया है।
अपडेटेड Mar 16, 2012 पर 15:55  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सीआईआई के अध्यक्ष मुथुरमन का कहना है कि 5.1 वित्तीय घाटे का लक्ष्य काफी सकारात्मक संकेत है। हालांकि इसमें कुछ और कटौती उम्मीद थी। वहीं मौजूदा बजट पावर, इंफ्रा और माइनिंग सेक्टर के लिए सकारात्मक है, लेकिन एक्साइज ड्यूटी और सर्विस टैक्स में बढ़ोतरी एक नकारात्म संकेत है।


गोदरेज समूह के चेयरमैन आदि गोदरेज का कहना है कि सरकार द्वारा 30,000 करोड़ रुपये विनिवेश का लक्ष्य काफी निराशाजनक है। वहीं वित्त वर्ष 2013 में 5.1 फीसदी वित्तीय घाटे का लक्ष्य भी काफी निराश करने वाला है।


वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा का कहना है कि काफी सकारात्मर बजट पेश किया गया है। वित्तीय घाटे की बढ़ती खाई को पाटने के लिए बड़े कदम उठाए जा रहे हैं। वहीं वित्तीय वर्ष 2014 में उद्योग जगत का कारोबारी लक्ष्य दोगुना होने की उम्मीद है। साथ ही मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई की प्रक्रिया भी अंतिम चरण में है।


एशियनओमिक्स के एमडी जिम वॉकर  मौजूदा बजट से ज्यादा खुश नहीं हैं। उनका कहना है कि वित्त वर्ष 2013 में वित्तीय घाटा बढ़कर 6 फीसदी से ज्यादा रहने की संभावना है।


वीडियो देखें