Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

जल्द दूर होंगी एमएफ इंडस्ट्री की दिक्कतें!

सरकार ने म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री को भरोसा दिलाया कि उनकी सारी दिक्कतों को दूर किया जाएगा।
अपडेटेड Jul 02, 2012 पर 13:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

एंट्री लोड को लेकर म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री और डिस्ट्रिब्यूटर के बीच मतभेद सामने आ गए हैं।


म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री दोबारा एंट्री लोड लगाने के खिलाफ है, जबकि डिस्ट्रिब्यूटर चाहते हैं कि एंट्री लोड लगाया जाए। हालांकि म्यूचअल फंड इंडस्ट्री ने सरकार से राजीव गांधी इक्विटी स्कीम को म्यूचुअल फड के जरिए भी लागू करने की मांग की है। म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री ने एक्जिट लोड 0.25 फीसदी बढ़ाने की वकालत की है।


आज इसी सिलसिले में वित्त मंत्रालय ने बैठक बुलाई थी जिसमें सेबी और बड़े फंड हाउस के अधिकारी शामिल थे। बैठक में सरकार ने म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री को भरोसा दिलाया कि उनकी सारी दिक्कतों को दूर किया जाएगा।


प्रधानमंत्री ने म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री की खराब हालत पर चिंता जताई थी, और इस बैठक को म्यूचुअल इंडस्ट्री की हालत सुधारने के तौर पर ही देखा जा रहा है।


वित्त मंत्रालय के साथ हुई म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री की बैठक में आर्थिक मामलों के सचिव ने टैक्स और अहम पहलूओं पर चर्चा की है। वहीं वित्त मंत्रालय का कहना है कि म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में घट रहे निवेश को रोकने की जरूरत है। डिस्ट्रिब्यूटरों में नया जोश पैदा करना जरूरी है। एएमसी को उनके खर्च पर ज्यादा आजादी देने की जरूरत है। इस महीने के अंत तक कई मुद्दों का हल आ जाएगा। म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री को मजबूत करने के लिए पेंशन और इंश्योरेंस की भूमिका बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। छोटे शहरों में म्यूचुअल फंड की पहुंच बढ़ाने पर जोर देना होगा।



वीडियो देखें