Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

ज्वाइंट होम लोन के बारे में पूरी जानकारी

घर खरीदना एक सपने के सच होने जैसा है और अब गृह ऋण की सुविधा मिलने से ये सपना आपकी पहुंच से दूर नही है।
अपडेटेड Apr 19, 2010 पर 19:06  |  स्रोत : Hindi.in.com

गुरजाप सिंह कोहली

घर खरीदना एक सपने के सच होने जैसा है और अब गृह ऋण की सुविधा मिलने से ये सपना आपकी पहुंच से दूर नही है।


हालांकि आप अपनी आमदनी और क्रेडिट रेटिंग के आधार पर ही किसी बैंक से अधिकतम ऋण प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन क्या होगा यदि आप के सपनों के घर के लिये आपको अपनी सामर्थ्य से ज्यादा ऋण की जरूरत पङती है ?

आपको चिंता करने की जरूरत नही है- आप संयुक्त गृह ऋण (जॉइंट होम लोन) ले सकते हैं ।


इससे आप बढे हुए टैक्स लाभों के अतिरिक्त अधिकतम ऋण राशि भी प्राप्त कर सकते हैं।(बशर्ते कि आपके साथ जिसने ऋण लिया है उसके पास आय का निश्चित स्त्रोत हो) ।

संयुक्त गृह ऋण कौन ले सकता है ?

एक विवाहित जोङा य़ा अभिवावक और संतान संयुक्त गृह ऋण ले सकते हैं।
कुछ बैंक दो भाईयों को संयुक्त ऋण लेने की आज्ञा देते हैं बशर्ते कि वो दोनों प्रॉपर्टी के सह-मालिक हों। बैंक इस बात पर जोर देते हैं कि एक घर के सभी मालिक मिलकर ही जॉइंट होम लोन लें।
अपवाद- बहनें, दोस्त और साथ रहने वाले अविवाहित जोङों को बैंक इस तरह के ऋण देने की आज्ञा नही देता ।

क्या ऋण लेने वाले दोनों लोगों को टैक्स में लाभ मिलता है-?


हां ,आप और आपका साथी दोनों ही ऋण के मूल और ब्याज़ चुकाने पर टैक्स में छूट पा सकते हैं।


इन तरीकों से आप अपने टैक्स में मिलने वाले लाभों को अधिकतम बना सकते हैं।


उदाहरण- चलिये मान लेते हैं कि किसी दिये गये साल में आपके गृह ऋण के मूल और ब्याज़ का भुगतान क्रमशः 2.4 लाख और 3.5 लाख रूपये है। अब सेक्शन 80 सी के अंतर्गत आप मूल चुकाने पर अधिकतम टैक्स छूट 1 लाख की पा सकते हैं, और सेक्शन 24 के तहत आपको ब्याज़ पर 1.5 लाख तक की टैक्स छूट मिल सकती है। अब चूंकि आपने और आपके भाई ने संयुक्त गृह ऋण लिया है अतः आप संयुक्त रूप से 2लाख की छूट मूल राशि पर और 3 लाख की छूट ब्याज़ चुकाने पर प्राप्त कर सकते हैं।


नोट- टैक्स लाभ ऋण के अनुपात के अनुसार मिलते हैं। अगर ऋण का अनुपात 70:30 है तो 50 लाख के ऋण पर ये क्रमशः 35 और 15 लाख के अनुपात में बंट जायेगा। ये अनुपात ऋण के मूल और ब्याज़ चुकाने के दौरान टैक्स लाभ की गणना करने पर लागू होगा।
उपयोगी सुझाव- टैक्स लाभ उद्देश्य के लिये बेहतर होगा कि आप घर का एक संयुक्त दस्तावेज़ बनवायें जो घर पर आप दोनों के मालिकाना हक का कानूनी सबूत हो।


उसमें स्टांप पेपर पर संयुक्त मालिकों का अनुपात दिखाया गया हो।


बैंक को कौन कौन से दस्तावेज़ चाहिये ?

आप और आपके साथी दोनों को जरूरी दस्तावेजों को जमा कराना आवश्यक है क्योंकि आप दोनो ऋण के लिये आवेदन कर रहे हैं।

दस्तावेजों की सूची प्रत्येक बैंक के लिये भिन्न भिन्न है। नीचे दी गयी सूची आवश्यक दस्तावेजों की है। अपने बैंक में जांच कीजिये कि उनमें से किन किन की आपको जरूरत होगी जिससे आपकी ऋण प्रक्रिया आगे बढे़।


ये सूची है कि आपके पास आवश्यक दस्तावेजों के कौन कौन से विकल्प हैं

पहचान के लिये प्रमाण


•    ड्राईविंग लाईसेंस
•    वोटर आई डी / मतदाता पहचान पत्र
•    पैन कार्ड
•    कर्मचारी आई डी
•    बैंक की पासबुक
•    किसी जानी पहचानी पब्लिक अथॉरिटी का पत्र या कोई सरकारी अफसर आपकी फोटो सत्यापित करे
•    आपके कार्यालय से प्रमाणित पत्र या कोई दूसरा बैंक आपकी फोटो सत्यापित करे

घर के पते का प्रमाण

•    ड्राईविंग लाईसेंस
•    वोटर आई डी / मतदाता पहचान पत्र
•    पासपोर्ट
•    राशन कार्ड
•    एल आई सी की पॉलिसी रसीद
•    कोई बिल- टेलीफोन, बिजली, पानी या गैस ( दो महिने से ज्यादा पुराना नही)
•    बैंक की पासबुक या बैंक खाते का स्टेटमेंट
•    किसी जानी पहचानी पब्लिक अथॉरिटी का पत्र या कोई ऐसा पत्र जो ग्राहक के घर का पता सत्यापित करता हो ।
•    आपके कार्यालय का पत्र

आयु का प्रमाण पत्र

•    ड्राईविंग लाईसेंस
•    बैंक पासबुक
•    पासपोर्ट
•    पैन कार्ड
•    जन्म प्रमाण पत्र
•    10 वीं की अंक तालिका

आमदनी का प्रमाण


इसके लिये निम्न दस्तावेजों का एक सेट चाहिये होगा जिसमें पूरी जानकारी हो कि आप आय प्राप्त कर्मचारी हैं या स्वयं उपार्जन करते हैं—


(अ)    खुद का व्यवसाय

•    आपके व्यापार का संक्षिप्त विवरण
•    बैलेंस शीट, लाभ और हानि खाते का स्टेटमेंट जो किसी कंपनी अकांउटेंट द्वारा सत्यापित हो
•    पिछले 3 साल के आयकर रिटर्न का प्रमाण
•    फोटो
•    यदि कोई अग्रिम कर भुगतान हुए तो उनकी जानकारी
•    दुकान संस्थान एक्ट फैक्ट्री एक्ट के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन सर्टीफिकेट की फोटोकॉपी
•    बैंक लोन रसीदें
•    निवेश के प्रमाण( फिक्सड डिपॉजिट सर्टीफिकेट, शेयर या अन्य कोई फिक्सड ऐसेट)
•    प्रैक्टिस का प्रमाणपत्र

आय प्राप्त कर्मचारी

आय प्रमाण पत्र ( आपको इन में से कोई एक प्रमाण पत्र देना होगा)


•    नवीनतम आय पर्ची
•    फॉर्म 16
•    इंक्रीमेंट प्रमोशन पत्र
•    नियुक्ति पत्र
•    आय पर्ची ( पिछले दो महिने की) साथ में सैलरी अकाउंट का बैंक स्टेटेमेंट
•    कार्यालय द्वारा प्रमाणित पत्र
•    आयकर रिटर्न (तीन वर्षों का)
•    निवेश के प्रमाण( फिक्सड डिपॉजिट सर्टीफिकेट, शेयर या अन्य कोई फिक्सड ऐसेट)
•    ऋणी की पिछली आर्थिक स्थिति को समर्थन देने वाले दस्तावेज़ ( उसकी चुकाई गई देनदरियां या कोई अन्य ऐसेट )
•    फोटो

5. संपत्ति (प्रॉपर्टी दस्तावेज़ )
अगर आपने बिल्डर से फ्लैट खरीदा है तो आपको निम्नलिखित दस्तावेज़ बैंक में जमा कराने होंगे---
•    बिल्डर के साथ आपके एग्रीमेंट की मूल क़ॉपी
•    प्रॉपर्टी का रजिस्टर क़ॉर्ड जो कि शहर के सर्वे विभाग से प्राप्त किया जा सकता है।
•    यदि कृषि भूमि है तो कलेक्टर से (N.A) आज्ञा का पत्र। जब भूमि कृषि योग्य होती है और इसे आवासीय  व्यवसायिक औद्यौगिक प्रयोग के लिये लिया जा रहा हो तो ऐसी भूमि को नॉन एग्रीकल्चर लैंड के रूप में परिवर्तित करना पङता है और इसका नॉन एग्रीकल्चर लैंड ऑर्डर उस जिले के कलेक्टर से लेना होता है जहां वो प्रॉपर्टी स्थित है।
•    सर्च रिपोर्ट और टाईटल सर्टीफिकेट- ये चीजे आपको एक वकील से मिल सकती हैं जो रजिस्ट्रार के दफ्तर जाकर संपत्ति के टाईटल का सर्वे करेगा। एक कानूनी सलाह आपको बाद में कानूनी पचङों से बचा सकती है और ये जानकारी संपत्ति बेचने के एग्रीमेंट में भरना जरूरी होता है।
•    विकास एग्रीमेंट जो जमीन के मालिक और बिल्डर के बीच हुआ हो
•    ग्रामीण भूमि एक्ट के अंतर्गत मिलने वाली कॉपी
•    संबंधित अथॉरिटी द्वारा पास किया हुआ बिल्डिंग प्लान
•    जो भी फ्लैट, प्रॉपर्टी या जमीन खरीदनी है उसके लिये चुकाये गये टैक्स की नवीनतम रसीदें।
•    एसोसियेशन ऑफ बिल्डर फर्म का पार्टनरशिप या मेमोरेंडम


यदि आप कॉरपोरेट सोसायटी से खरीद रहे हैं तो निम्न दस्तावेजों का मिलना पक्का करें-


•    सोसायटी का मूल प्रमाण पत्र
•    सोसायटी की तरफ से आपके नाम पर आवंटित पत्र
•    लीज़ की कॉपी
•    सोसायटी के रजिस्ट्रेशन का प्रमाण पत्र
•    सोसायटी के तरफ से अनापत्ति प्रमाण पत्र
•    जमीन के लिये (N.A) प्रमाण पत्र ( कलेक्टर की तरफ से)
•    सर्च रिपोर्ट और टाईटल प्रमाण पत्र
•    ग्रामीण भूमि एक्ट के तहत मिलने वाली कॉपी
•    संबंधित अथॉरिटी द्वारा पास किया हुआ बिल्डिंग प्लान
•    प्रॉपर्टी के लिये चुकाये गये टैक्स की नवीनतम रसीदें
•    असाइनमेंट की मूल कॉपी


अगर आप अपनी भूमि पर निर्माण कर रहे हैं तो आपको निम्न दस्तावेज़ों की जरुरत पङ़ेगी।


•    जमीन को खरीदने का मूल दस्तावेज़ और इंडेक्स 2 का सार
•    आपके नाम पर संपत्ति का रजिस्टर कार्ड
•    जमीन के लिये (N.A) प्रमाण पत्र ( कलेक्टर की तरफ से)
•    सर्च रिपोर्ट और टाईटल प्रमाण पत्र
•    ग्रामीण भूमि एक्ट के तहत चुकाये गये टैक्स वाली कॉपी
•    संबंधित अथॉरिटी द्वारा पास किये हुए बिल्डिंग प्लान की रसीद
•    कॉरपोरेशन से पास किया हुआ बिल्डिंग का आज्ञापत्र
•    जमीन के लिये चुकाये गये टैक्स की नवीनतम रसीदें
•    आपके निर्माण की लागत का ब्यौरा(आर्किटेक्ट द्वारा पास किया हुआ)

साभार: BankBazaar.com
डिस्क्लेमर- हमने आपने सभी विषय सामग्री(सभी लेख तथा सूचनायें)की सटीकता को सूनिश्चित करने के पूरे प्रयास किये हैं। अतः किसी भी हानि या घटना( जिसमें इस वेबसाईट या सूचना का प्रयोग किया हो) के लिये ये वेबसाईट और लेखक जिम्मेदार नहीं होंगे।