Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु से सुलझाएं टैक्स की उलझनें

टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया ने टैक्स से जुड़ी कई जानकारी दी जो आपके भी बहुत काम आ सकती हैं।
अपडेटेड Dec 08, 2012 पर 13:39  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया ने टैक्स से जुड़ी कई जानकारी दी जो आपके भी बहुत काम आ सकती हैं।


टैक्स गुरू के मुताबिक जिन करदाताओं का साल भर में 10,000 रुपये से ज्यादा एडवांस टैक्स बनता है उन्हें 15 दिसंबर 2012 से पहले एडवांस टैक्स की दूसरी किश्त भरनी होगी। दूसरी किश्त में साल भर में बनने वाले कुल टैक्स का 60 फीसदी हिस्सा देना होगा।


कंपनियों को 15 दिसंबर 2012 तक एडवांस टैक्स की तीसरी किश्त देनी है। कंपनियों को तीसरी किश्त में साल भर में बनने वाले कुल टैक्स का 75 फीसदी हिस्सा अदा करना है। कंपनियां कुल टैक्स में से टीडीएस घटाकर एडवांस टैक्स निकाल सकती हैं।


सवालः एनआरआई थे और अब भारत लौट आए हैं। मिडिल ईस्ट की पिछली नौकरी के सेटलमेंट के रकम इस साल एनआरआई अकाउंट में आई है। क्या टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटिया: आप के भारत में आते ही आपका एनआरआई का स्टेटस बदल जाएगा और एनआरआई अकाउंट भी बंद हो जाएगा। एनआरआई स्टेटस बदलते ही आपको टैक्स देना होगा। आपको एनआरआई अकाउंट में आए पैसों पर टैक्स नहीं देना होगा। क्योंकि आपकी राशि पिछले वर्ष की थी और ये इस वर्ष में अकाउंट में आई है, इसलिए इस पर टैक्स नहीं लगेगा।


सवालः 1.5 साल पहले एक प्रॉपर्टी बेचकर फिलहाल नई प्रॉपर्टी में निवेश किया है, क्या इस पर टैक्स छूट मिल सकती है?


सुभाष लखोटिया: आपको टैक्स छूट नहीं मिल पाएगी क्योंकि प्रॉपर्टी निवेश पर टैक्स छूट के लिए घर की खरीद-फरोख्त में 3 साल का अंतर होना जरूरी होता है। इस शॉर्ट टर्म कैपिटल गैन कहते हैं।


सवालः क्या ज्वाइंट होमलोन में भाई के हिस्से पर खुद टैक्स छूट क्लेम कर सकते हैं? क्या घर का किराया देने पर टैक्स छूट मिल सकेगी?


सुभाष लखोटिया: ज्वाइंट होमलोन में केवल आपके अपने हिस्से के ब्याज पर ही टैक्स छूट मिल पाएगी। मौजूदा साल में जितने महीने आप किराए के घर में रहे हैं, उस किराए के पेमेंट को एचआरए में क्लेम कर सकते हैं। 


सवालः लंबी विदेश यात्रा पर जाते समय टैक्स बचाने के लिए किन-किन बातों का ख्य़ाल रखना चाहिए?


सुभाष लखोटिया: विदेश यात्रा पर जाते समय टैक्स के लिहाज से कोई औपचारिकता नहीं होती है। लेकिन आयकर की धारा 114बी के तहत 25,000 रुपये से ज्यादा के नकद पेमेंट पर पैन नंबर की जानकारी देना जरूरी होता है। साथ ही टैक्स अधिकारी विदेश यात्रा के खर्चे के स्त्रोत की जानकारी मांग सकते हैं। अगर विदेश जाने का टिकट रिश्तेदार ने गिफ्ट किया है तो इस गिफ्ट का प्रूफ अपने पास रखें। 


सवालः दिसंबर 2007 में यूलिप पॉलिसी खरीदी थी, हर साल इस पर 80सी के तहत टैक्स छूट क्लेम कर रहे हैं, टैक्स बचाने कि लिहाज से इसे कब बेचें?


सुभाष लखोटिया: जिस यूलिप पॉलिसी पर आप 80सी का फायदा ले चुके हैं उसे खरीदने के 5 साल के बाद ही उसे बेचें, अन्यथा पहले जो टैक्स छूट ले चुके हैं वो रिवर्स हो जाएगी। 5 साल बाद बेचने पर टैक्स नहीं देना होता है।


सवाल: जिस घर में रहते हैं वो पत्नी के नाम पर है, क्या इस पर एचआरए का फायदा मिल सकता है?


सुभाष लखोटिया: एचआरए का फायदा लेने के लिए घर का किराया पत्नी को दें। टैक्स छूट के लिए घर पत्नी के नाम पर होना जरूरी है। पत्नी को दिए किराए का रसीद ले लें और अपने नियोक्ता में जमाकर एचआरए क्लेम कर सकते हैं। 


सवालः नया एचयूएफ शुरु करना चाहते हैं, एचयूएफ में क्या इनकी मां ज्वाइंट प्रॉपर्टी दान कर सकती हैं और इस पर टैक्स कैसे देना होगा?


सुभाष लखोटिया: प्रॉपर्टी दान में दी जा सकती है लेकिव इस पर स्टैम्प ड्यूटी का खर्चा होगा। एचयूएफ को प्रॉपर्टी दान की जा सकती है, इस दान पर धारा 56 के तहत टैक्स दैना होगा।


सवालः साल 2011-12 का रिटर्न भरते समय गड़बड़ी कर दी है, इस भूल को कैसे सुधारें और क्या फिर से रिटर्न भरने पर जुर्माना लगेगा?


सुभाष लखोटियाः गलती सुधारने के लिए आप रिवाइज रिटर्न भर सकते हैं, दोबारा रिटर्न भरने पर जुर्माना नहीं लगेगा।


सवालः बालिग बेटे को रकम गिफ्ट करने पर और फिर बेटे से रकम वापस गिफ्ट या लोन के जरिए लेने पर टैक्स कानून क्या कहता है?


सुभाष लखोटिया: बेटे को गिफ्ट देने या बेटे से गिफ्ट लेने पर टैक्स नहीं लगेगा। साथ ही आप बेटे से रकम गिफ्ट या लोन के जरिए ले सकते हैं। आयकर कानून के हिसाब से ये सही है।


वीडियो देखें