Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स बचत के आसान तरीके

प्रकाशित Sat, 15, 2012 पर 14:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जानिए टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया जी से टैक्स से जुड़े सभी सवालों के जवाब और टैक्स बचत के आसान तरिके।


सवालः बिजनेस और प्रोफेशन खर्चों पर टैक्स की देनदारी कैसे बनती है? मैं सरकारी कंपनी में काम करता हूं, क्या प्रोफेशनल टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटियाः आईटी कानून के मुताबिक बिजनेस में नकद पेमेंट गलत होता है। एक दिन में एक व्यक्ति को 20,000 रुपये से ज्यादा नकद का भुगतान करना गलत होगा। अगर 20,000 रुपये से ज्यादा भुगतान किया तो इसे बिजनेस खर्च नहीं माना जाएगा। सरकारी कर्मचारियों को आमदानी के हिसाब प्रोफेशनल टैक्स लगता है।


सवालः वित्त वर्ष 2003-2004 से 2010-2011 तक का रिटर्न नहीं भरा है। क्या अब टैक्स भर सकते है? और ट्यूशन फीस पर टैक्स की देनदारी कैसे बनेगी?


सुभाष लखोटियाः आप अभी अपना पिछला टैक्स रिटर्न नहीं भर सकते हैं। तय समय तक ही पुराना रिटर्न भरा जा सकता है। ट्यूशन से मिली रकम पति की आमदनी में जुड़ेगी जिससे क्लबिंग ऑफ इनकम का प्रावधान लागू होगा। 


सवालः मां के नाम पर 3 लाख रुपये की एफडी करना चाहते हैं। टैक्स कैसे लगेगा और रिश्तेदारों को कितनी रकम गिफ्ट कर सकते हैं?  


सुभाष लखोटियाः माता-पिता को रकम गिफ्ट देने पर कोई सीमा नहीं है। वहीं रिश्तेदारों को भी रकम गिफ्ट देने पर कोई सीमा नहीं है। लेकिन गिफ्ट की रकम का प्रूफ अपने पास रखना जरूरी है। क्योंकि प्रूफ ना होने पर आयकर विभाग इसे बेनामी निवेश मान सकता है।   


सवालः वित्त वर्ष 2011-2012 के रिटर्न में निवेश की पूरी जानकारी नहीं देने से गलती हुई। इसे कैसे सुधारा जा सकता है? 


सुभाष लखोटियाः रिटर्न में हुई गलती को सुधारने के लिए आप आयकर अधिकारी को पत्र लिखें और पूरी जानकारी दें। साथ ही किए हुए निवेश की फोटोकॉपी भी आईटी विभाग को भेजें। इस तरह धारा 154 के तहत गलती में सुधार हो सकता है। 


सवालः नकद लोन के लेने-देने में लिमिट का ख्याल रखना जरूरी होता है? और क्या नेट बैंकिंग के द्वारा पत्नी को लोन देने पर टैक्स लगता है?   


सुभाष लखोटियाः आईटी कानून के मुताबिक 20,000 से ज्यादा नकद लोन नहीं लिया जा सकता। अगर ऐसा होता है तो नकद लोन के लेन-देन पर जुर्माना लग सकता है। लोन की पूरी राशि बतौर जुर्माना देनी होगी इसलिए चेक के जरिए ही पेमेंट करना बेहतर होगा।


आप नेट बैंकिंग के द्वारा पत्नी को लोन दे सकते हैं। लेकिन नकद में या बियरर चेक से लोन देना गलत होगा।  


सवालः एफडी के ब्याज से 3.50 लाख रुपये आमदनी है। 1 लाख रुपये एनएससी में निवेश करना चाहते हैं। टीडीएस कैसे बचाएं?     


सुभाष लखोटियाः टीडीएस बचाने के लिए आपको फॉर्म 15एच भरना चाहिए। फॉर्म 15एच भरने से बैंक टीडीएस नहीं काटेगा।    


सवालः राजीव गांधी इक्विटी स्कीम में निवेश का फायदा वित्त वर्ष 2012-13 या फिर वित्त वर्ष 2013-14 में ले सकते हैं?


सुभाष लखोटियाः धारा 80सीसीजी के तहत टैक्स में छूट का फायदा जरूर मिलेगा। आप वित्त वर्ष 2012-13 में राजीव गांधी इक्विटी स्कीम में निवेश का फायदा ले सकते हैं।


सवालः वित्त वर्ष 2006-07 में कंपनी ने टीडीएस काटा। 2009 में इसका रिफंड देने से आईटी विभाग ने मना किया। क्या करें?


सुभाष लखोटियाः आयकर अधिकारी को पत्र लिखकर आप रिफंड के लिए अनुरोध करें। आप को अपना रिफंड जरूर मिलेगा।


सवालः कॉंन्ट्रैक्ट पर काम करते हैं। सालाना 3 लाख रुपये आमदनी है। क्या टीडीएस बचाने की गुंजाइश है?


सुभाष लखोटियाः कॉंन्ट्रैक्ट के तहत मिली रकम प्रोफेशनल आमदनी कहलाती है और प्रोफेशनल इनकम पर 10 फीसदी टीडीएस कटता है। आप रिटर्न भरें और रिफंड के लिए क्लेम करके अपना टैक्स बचाएं।


सवालः कैपिटल गेन की बचत के लिए क्या आरईसी के टैक्स फ्री बॉन्ड में निवेश किया जा सकता है? 


सुभाष लखोटियाः आरईसी के टैक्स फ्री बॉन्ड में निवेश से कैपिटल गेन की बचत नहीं होती। कैपिटल गेन की बचत के लिए आपको आरईसी और एनएचएआई के कैपिटल गेन्स बॉन्ड में ही निवेश करना होगा।   


सवालः 2008 में प्रॉपर्टी में निवेश किया, 2009 में अलॉटमेंट लेटर मिला। प्रॉपर्टी का रजिस्ट्रेशन 20101 में हुआ। खरीद की तारिख किसे मानें?


सुभाष लखोटियाः जिस दिन प्रॉपर्ट्री का रजिस्ट्रेशन हुआ वो दिन प्रॉपर्टी की खरीद की तारिख मानी जाती है। प्रॉपर्ट्री रजिस्ट्रेशन से बेचने के बीच में कम से कम 3 साल का अंतर होना जरूरी है।  


सवालः पिता को हर महीने खर्च के लिए पैसे देते हैं। भाई-बहन की शादी पर भी खर्च किया। क्या इस पर टैक्स छूट ले सकते हैं? 


सुभाष लखोटियाः पिता को दी हुई रकम गिफ्ट मानी जाएगी और पिता को गिफ्ट देने पर टैक्स में छूट नहीं मिलता। इसके अलावा भाई-बहन की शादी पर भी किए खर्चों पर टैक्स छूट का फायदा नहीं मिलेगा।    


सवालः क्या भारत में डीमैट अकाउंट खोलकर निवेश कर सकते हैं? पत्नी के नाम से ट्रेडिंग करने पर टैक्स कैसे लगेगा?   


सुभाष लखोटियाः एनआरआई अपने डीमैट अकाउंट से भारत में स्टॉक मार्केट में निवेश कर सकते हैं। शेयर से होने वाली आमदनी आपकी मानी जाएगी। पत्नी के अकाउंट से भी स्टॉक मार्केट में ट्रेड किया जा सकता है। लेकिन पत्नी के अकाउंट से हुई ट्रेडिंग पर पत्नी को टैक्स देना होगा। अगर 1 साल के बाद शेयर बेचा जाता है तो उसपर कोई टैक्स नहीं देना होगा।   


सवालः कंपनी से स्पेशल स्कीम के तहत एलटीसी मिली। क्या इस स्पेशल एलटीसी पर छूट मिलेगी?   


सुभाष लखोटियाः कंपनी से मिली स्पेशल एलटीसी पर आपको 5000 रुपये तक की टैक्स छूट मिल सकती है।



वीडियो देखें