Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

ऑर्डर कम होने से मार्जिन पर दबावः ऐस

लागत बढ़ने और ऑर्डर कम होने से मोबाइल क्रेन के मार्जिन पर भी दबाव देखा जा रहा है।
अपडेटेड Dec 21, 2012 पर 16:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ऐस के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर सौरभ अग्रवाल के मुताबिक कंपनी की आय में मोबाइल क्रेन से सबसे ज्यादा 50 फीसदी आय मिलती है। ट्रैक्टर से 15-16 फीसदी और पावर क्रेन से 10 फीसदी आय आती है। इसके अलावा आय का बाकी हिस्सा अन्य सेगमेंट से आता है।


पिछले 1-1.5 साल से मोबाइल क्रेन की आय में कमी देखी जा रही है क्योंकि इंफ्रा प्रोजेक्ट में देरी हो रही है। इसके अलावा लागत बढ़ने और ऑर्डर कम होने से मोबाइल क्रेन के मार्जिन पर भी दबाव देखा जा रहा है।


सौरभ अग्रवाल के मुताबिक ट्रेक्टर सेगमेंट के मार्जिन बेहतर हुए हैं और ये करीब 6.7 फीसदी के आसपास हैं। ट्रेक्टर सेगमेंट में प्रवेश किए हुए कंपनी को 3.5 साल हुए हैं। कंपनी इस कारोबार का बेस बना रही है।


एसीई कंस्ट्रक्शन इक्विपमेंट बनाने वाली देश की दिग्गज कंपनी है जो 1995 में शुरू हुई थी। ये कंपनी एनएसई और बीएसई पर 2006 में लिस्ट हुई थी।


ऐस क्रेन, लोडर्स, रोलर, ट्रैक्टर और कई तरह के कंस्ट्रक्शन इक्विपमेंट बनाती है। कंपनी के दो प्लांट फरीदाबाद और दो प्लांट उत्तराखंड में हैं। ऐस 27 देशों में एक्सपोर्ट करती है। कंपनी के ग्राहकों में रिलांयस इंडस्ट्रीज, टाटा मोटर्स, एसीसी, बीएचईएल, एनटीपीसी, एलएंडटी, बीएसएनएल और कोल इंडिया शामिल हैं।


वीडियो देखें