Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

मोतीलाल ओसवाल एएमसी स्ट्रेटेजिक पार्टनर तलाशेगी

मोतीलाल ओसवाल ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी विदेशी पूंजी को आकर्षित करने के लिए स्ट्रेटेजिक पार्टनर की तलाश कर सकती है।
अपडेटेड Apr 12, 2013 पर 11:27  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मोतीलाल ओसवाल ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी विदेशी पूंजी को आकर्षित करने के लिए स्ट्रेटेजिक पार्टनर की तलाश कर सकती है। इसके जरिए वो अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में डिस्ट्रीव्यूशन नेटवर्क मजबूत करने पर विचार कर रही है। 


मोतीलाल ओसवाल एएमसी जो मोतीलाल ओसवाल म्यूचुअल फंड चलाती है अपने मौजूदा ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड) की प्रोडक्ट रेंज बढ़ाने पर भी विचार कर रही है। कंपनी अगले 5 सालों में एक एक्सपर्ट इक्विटी हाउस के रुप में जानी जाने वाली कंपनी बनना चाहती है।


मोतीलाल ओसवाल एएमसी के सीईओ आशीष पी सोमैया का कहना है कि अगर कोई स्ट्रेटेजिक पार्टनर कंपनी को अंतर्राष्ट्रीय डिस्ट्रीब्यूशन के क्षेत्र में सहायता दे सकती है तो कंपनी उसका साथ ले सकती है।


सोमैया का कहना है कि कंपनी के उत्पादों की घरेलू बाजारों में अच्छी पकड़ है।


मोतीलाल ओसवाल म्यूचुअल फंड वर्तमान में 5 फंड में निवेशकों के 538 करोड़ रुपये के ऐसेट का प्रबंधन करती है।


विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए कंपनी अपनी पेरेंट फर्म मोतीलाल ओसवाल के ब्रैंड वैल्यू को भुनाना चाहती है। मोतालाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विस सेक्टर के विभिन्न सेगमेंट में कारोबार करती है। 


एक ग्रुप के रूप में मोतालाल ओसवाल अमेरिका, ब्रिटेन, खाड़ी देशों और अन्य कई एशियाई देशों में अपनी अच्छी पहचान रखती है।


आशीष पी सोमैया का कहना है कि एफआईआई के रूप में रजिस्टर्ड विदेशी निवेशकों से कंपनी को लगातार अपनी इक्विटी और ईटीएफ में विदेशी पूंजी मिलती रहती है। कंपनी अपने कई नए ओपन एंडेड इक्विटी के जरिए और अन्य साधनो के जरिए विदेशी पूंजी लाने पर विचार कर रही है।


आशीष पी सोमैया के मुताबिक एएमसी को भारतीय म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूशन बाजार में लगातार नए बदलाव आते दिख रहे हैं। भारत में डिस्ट्रीब्यूशन ज्यादा संगठित और नियामक हो रहा है। आगे चलकर बैंकिंग, ब्रोकर डीलर और संगठित आईएफए ( इंडीपेंडेट फाइनेंशियल एडवाइजर) को भारत में ज्यादा बेहतर प्लेटफॉर्म मिल पाएगा।


आगे संभावित लक्ष्यों के बारे में बात करते हुए सीईओ का कहना है कि कंपनी पार्टनरशिप, अधिग्रहण और विलय के जरिए नई कारोबारी गतिविधियों को अंजाम दे सकती है।