Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु की मदद से दूर भगाएं टैक्स की टेंशन

टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया से जानें कैसे बचेगा टैक्स और किस तरह कम टैक्स चुकाकर कमाई बढ़ा सकते हैं।
अपडेटेड May 10, 2013 पर 14:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स से जुड़ा शायद ही कोई ऐसा सवाल होगा जिसका जवाब टैक्स गुरु के पास नहीं है। टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया से जानें कैसे बचेगा टैक्स और किस तरह आप कम टैक्स चुकाकर अपनी कमाई बढ़ा सकते हैं।


सवालः कमर्शियल प्रॉपर्टी पर 1 फीसदी ब्याज मिल रहा है। बिल्डर द्वारा पहले की तरह ब्याज मिलना जारी रहने पर कितना टैक्स लगेगा?


सुभाष लखोटियाः ब्याज की रकम आपकी इन्कम मानी जाएगी। प्रॉपर्टी की बढ़ी हुई कीमत पर बिल्डर द्वारा अतिरिक्त ब्याज मिलने की उम्मीद नहीं है। इसलिए इस पर कोई टैक्स की देनदारी नहीं मानी जाएगी।


सवालः 2 लोगों को एक ही नंबर के पैन कार्ड इश्यू हो गए हैं, जिससे काफी परेशानी हो रही है, रिफंड भी नहीं मिल पा रहा है, इस मामले में क्या करना चाहिए?


सुभाष लखोटियाः अपने आयकर एसेसिंग ऑफिसर को पत्र लिखकर पैन कार्ड में सुधार करवाएं। जहां से टीडीएस काटा गया है वहां से टीडीएस सर्टिफिकेट बनवाकर ले लें। इसके बाद रिटर्न भरें इससे आपको रिफंड मिल जाएगा।


सवालः मां के साथ कई ज्वाइंट अकाउंट हैं, मां और बेटे में कोई मतभेद नहीं हैं, क्या तब भी मां को वसीयत बनवानी चाहिए?


सुभाष लखोटियाः मां को वसीयत बनवानी चाहिए, वसीयत में मां लिख दें कि उनकी मृत्यु के बाद सारी संपत्ति बेटे यानी आपके नाम होगी। इससे आगे चलकर आपको कोई समस्या नहीं होगी।


सवालः म्यूचुअल फंड और ईएलएसएस में निवेश करते हैं, आय 10 लाख रुपये से कम है। क्या टैक्स बचत के लिए राजीव गांधी इक्विटी सेविंग स्कीम में निवेश करना चाहिए?


सुभाष लखोटियाः राजीव गांधी इक्विटी सेविंग स्कीम में निवेश करना अच्छा विकल्प रहेगा। ध्यान रहे कि पहले आपने शेयरों में निवेश ना किया हो और आपका पहले से डीमैट अकाउंट भी नहीं होना चाहिए। इसके लिए अलग से डीमैट अकाउंट खुलवाना होगा।


सवालः क्या भाई को विकलांग बहन की देखभाल पर खर्च किए गए पैसे पर टैक्स छूट मिल सकती है?


सुभाष लखोटियाः सामान्य तौर पर भाई को बहन का खर्च उठाने पर अलग से टैक्स छूट नहीं मिल सकती है। लेकिन अगर आयकर की धारा 80डीडी के तहत बहन विकलांग श्रेणी में आती हैं तो बहन के खर्च पर 50,000 रुपये की टैक्स छूट मिल सकती है। अगर गंभीर बीमारी है तो खर्च उठाने पर 1 लाख रुपये तक की टैक्स छूट मिल सकती है।


सवालः वरिष्ठ नागरिक हैं और बैंक से फॉर्म 16ए लाते हैं। कई बार बैंक से फॉर्म 16ए मिलने में दिक्कत आती है। क्या टीडीएस सर्टिफिकेट के लिए फॉर्म 16ए लाना जरूरी होता है?


सुभाष लखोटियाः बिना फॉर्म 16ए के भी इन्कम टैक्स रिटर्न भर सकते हैं। घर बैठे ऑनलाइन फॉर्म 26एएस से टीडीएस का ब्यौरा ले सकते हैं और इन्कम टैक्स रिटर्न भर सकते हैं।


सवालः यूको बैंक में टैक्स सेविंग एफडी में निवेश किया है, एक और 4 लाख रुपये की एफडी की है, बैंक ने दोनों एफडी पर टीडीएस काटा ये कहकर कि बैंक के पास पैन नंबर का विवरण नहीं है। अब क्या करना चाहिए?


सुभाष लखोटियाः पैन कार्ड का विवरण ना होने के चलते बैंक ने एफडी के ब्याज पर 20 फीसदी के हिसाब से टीडीएस काट लिया है जबकि बैंक को 10 फीसदी के हिसाब से टीडीएस काटना था। आप बैंक से टीडीएस सर्टिफिकेट ले लें और इन्कम टैक्स रिटर्न भरकर रिफंड के लिए क्लेम करें। आने वाले वर्षों में इस तरह की परेशानी आपको ना हो इसके लिए बैंक को पैन नंबर की पूरी जानकारी दें। बैंक से पैन नंबर मिलने के पत्र पर प्राप्ति की मुहर लगवा लें। इससे आपके पास सबूत रहेगा कि आपने बैंक को पैन नंबर दिया है।


सवालः नवंबर 2012 से मार्च 2013 की सैलरी अप्रैल 2013 में जाकर मिली है। क्या पिछले साल की सैलरी के लिए इस साल टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटियाः सैलरी का भुगतान हो या ना हो उस पर टैक्स देना होता है। पिछले साल आप पर टैक्स नहीं लगा इसलिए पिछली सैलरी पर इस बार टैक्स नहीं लगेगा।


वीडियो देखें