Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

एनएसईएल संकट: कब मिलेंगे निवेशकों को पैसे

पी चिदंबरम के मुताबिक निवेशकों ने तमाम खतरों को जानते हुए भी पैसे लगाए थे।
अपडेटेड Nov 25, 2021 पर 15:26  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एनएसईएल की जांच में तगड़ा झटका लगा है। दरअसल वित्त मंत्री पी चिदंबरम के मुताबिक निवेशकों ने तमाम खतरों को जानते हुए भी पैसे लगाए थे। वित्त मंत्री ने ये भी कहा कि जांच कब खत्म होगी इसकी कोई समय सीमा नहीं बता सकते। ऐसे में एनएसईएल में करीब 7,000 छोटे निवेशकों के फंसे हुए पैसे कब मिलेंगे ये कोई नहीं जानता।


सरकार से उम्मीद थी कि वो एनएसईएल घोटाले की तेजी से जांच कराएगी और फंसे हुए पैसा वापस दिलाएगी। लेकिन खुद वित्त मंत्री ने इस मामले पर बड़ा बेतुका बयान दिया है। वित्त मंत्री ने कहा है कि एनएसईएल किसी रेगुलेटर के दायरे में नहीं था और पहले दिन से ही उसका बिजनेस मॉडल संदेह के दायरे में था।


वित्त मंत्री के मुताबिक एनएसईएल घोटाले की जांच कॉरपोरेट मंत्रालय, आयकर विभाग के अलावा कई एजेंसियां कर रही हैं और अब इसकी शिकायत सीबीआई से भी की गई है। ये बताना मुश्किल है कि एनएसईएल पर कार्रवाई कब तक होगी।


वित्त मंत्री ने कहा है कि निवेशकों ने एनएसईएल में जानबूझकर पैसे लगाएं हैं। पी चिदंबरम के मुताबिक एनएसईएल पहले दिन से ही नियमों का उल्लंघन कर रहा था। एनएसईएल एक्सचेंज के तौर पर रजिस्टर्ड नहीं था, इसलिए एफएमसी के दायरे में नहीं था।


पी चिदंबरम का कहना है कि एनएसईएल की देनदारी सिर्फ कोर्ट ही तय कर सकता है। मायाराम कमेटी को एनएसईएल में कोई सिस्टमिक खामी नहीं मिली है। सेबी और एफएमसी को मामले पर नजर रखने को कहा है।


एफएमसी और कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय एनएसईएल पर मिली रिपोर्ट का अध्ययन कर रहे हैं। वित्त मंत्री के मुताबिक सत्यम मामले की तुलना नहीं हो सकती है।


वहीं, सूत्रों से एक्सक्लूसिव जानकारी मिली है कि एंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) ने एनएसईएल के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया है। ईडी एक्सचेंज के खिलाफ मनी लॉन्डरिंग की जांच नहीं कर रहा है।


सूत्रों के मुताबिक इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (ईओडब्ल्यू) के द्वारा कार्रवाई किए जाने पर ही ईडी मामला दर्ज करेगा। ईओडब्ल्यू जांच एनएसईएल मामले में अपराधिक गतिविधियों की जांच कर रहा है।


वीडियो देखें