Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु दिलाएंगे टैक्स की टेंशन से मुक्ति

टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया ने टैक्स से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए जो आपके भी बहुत काम आ सकते हैं।
अपडेटेड Nov 23, 2013 पर 14:57  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इनकम टैक्स का नाम लिया नहीं कि लोग हैरान परेशान हो जाते हैं। लेकिन घबराइये नहीं क्योंकि टैक्स की टेंशन से मुक्ति दिलाने के लिए आ गए हैं टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया। टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया ने टैक्स से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए जो आपके भी बहुत काम आ सकते हैं।


सवालः बच्चों से मिली पॉकेट मनी से 50,000 रुपये के शेयर खरीदे हैं और इसपर 5000 रुपये का शॉर्ट टर्म गेन हुआ है। इस पर टैक्स की देनदारी कैसे बनेगी?


सुभाष लखोटियाः बच्चों से मिली पॉकेट मनी का सर्टिफिकेट अपने पास रखें और इस रकम पर आपको कई टैक्स नहीं देना होगा। इस तरह से मिली रकम बच्चों से मिला गिफ्ट मानी जाएगा। सेक्शन 56 के तहत रिश्तेदार से मिले गिफ्ट पर टैक्स नहीं लगता है। गिफ्ट के पैसे को निवेश करने से हुए मुनाफे पर टैक्स लगेगा। अगर गिफ्ट से मिली रकम पर हुआ मुनाफा कुल इनकम टैक्स की छूट की सीमा से ज्यादा हुआ तो ही आपको टैक्स देना होगा।


सवालः  बेटी को फ्लैट गिफ्ट करना चाहता हूं, टैक्स की देनदारी किस पर और कैसे बनेगी?


सुभाष लखोटियाः आपको अपनी बेटी को फ्लैट गिफ्ट करने पर कोई टैक्स नहीं देना होगा और ना ही आपकी बेटी पर टैक्स की देनदारी बनेगी। सेक्शन 56 के तहत रिश्तेदार से मिले गिफ्ट पर टैक्स नहीं लगता है।


सवालः क्या पीपीएफ में सालाना 1 लाख रुपये से ऊपर के निवेश पर ब्याज मिलेगा या नहीं?


सुभाष लखोटियाः पीपीएफ अकाउंट में अपना और बच्चों का मिलाकर साल भर में 1 लाख रुपये तक का निवेश हो सकता है।


सवालः क्या पीपीएफ अकाउंट रिन्यू करा सकते हैं?


सुभाष लखोटियाः  पीपीएफ अकाउंट हर 5 साल के बाद दोबारा बढ़ा सकते हैं।


सवालः एसैसमेंट इयर 2012-13 के लिए आईटीआर 1 में रिटर्न भरा था लेकिन अब दोबारा सेक्शन 143-1ए के तहत टेक्स डिमांड का नोटिस आ गया है, क्या दोबारा रिटर्न भरना पडे़गा?


सुभाष लखोटियाः आपको ऑनलाइन सुधार के लिए एप्लाई करना ठीक रहेगा। आप सीपीसी को पूरी जानकारी के साथ पत्र लिखें। पत्र की कॉपी अपने ऐसेसिंग अधिकारी को भी भेजें। पत्र में बताएं कि आपने सही इनकम जोड़कर पूरा टैक्स चुकाया है।


सवालः  2007 से जापान में थे और तब से भैरत में कोई इनकम नहीं मिली है। इसलिए 2009-2010 से रिटर्न नहीं भरा है लेकिन अब आईटी विभाग से नोटिस मिला है।


सुभाष लखोटियाः भारत में आपकी कोई इनकम नहीं है तो आपको यहां रिटर्न भरने की कोई जरूरत नहीं है। आप आईटी अधिकारी को पत्र लिखकर बताएं कि आपकी भारत में कोई इनकम नहीं है और आप पर कोई टैक्स बकाया नहीं है।


वीडियो देखें