योर मनी: इंश्योरेंस एजेंट के लुभावने वादों से बचें -
Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनी: इंश्योरेंस एजेंट के लुभावने वादों से बचें

प्रकाशित Fri, 07, 2014 पर 08:00  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ऑनलाइन फाइनेंशियल प्लानिंग के कार्तिक झवेरी बता रहे हैं इंश्योरेंस लेते समय किन बातों का ध्यान रखें। वहीं कौन सी पॉलिसी आपके लिए होगी बेहतर।


सवाल: मैंने एजेंट के द्वारा मैक्स लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी ली है। पॉलिसी का प्रीमियम 35,000 रुपये सालाना है, वहीं सम-एश्योर्ड 3.5 लाख रुपये है। मैं पॉलिसी का एक प्रीमियम भर चुका हूं। लेकिन मुझे हाल ही में मालुम पड़ा है कि पॉलिसी लेते वक्त एजेंट द्वारा किए गए वादे झूठे हैं। ऐसे में क्या अब पॉलिसी से निकल जाना चाहिए?


जवाब: ऐसा एक्सर होता है कि लोग एजेंट के लुभावने वादों में आ जाते हैं। लेकिन यहां गलती बीमाधारक की होती है। क्योंकि पॉलिसी लेते वक्त पॉलिसी डॉक्युमेंट में साइन करते वक्त वह डॉक्युमेंट को ठीक से पढ़ते नहीं हैं।  उसके बाद 15 दिन का फ्री लुक इन पीरियड होता है तब भी पॉलिसी नहीं देखते हैं। ऐसे में फिलहाल पॉलिसी से निकलकर आपको नुकसान होगा, बेहतर होगा पॉलिसी के 3 अथवा 5 प्रीमियम भरें उसके बाद पॉलिसी सरेंडर करें।


सवाल: मेरे पास एचडीएफसी यंग स्टार और एलआईसी जीवन आनंद प्लान है। एचडीएफसी यंग स्टार का सालाना प्रीमियम 50,000 रुपये, जबकि एलआईसी का 34,000 रुपये है। दोनों पॉलिसी के 5 प्रीमियम भर चुका हूं। इसके अलावा 1 करोड़ रुपये का टर्म प्लान भी है। लेकिन अब मैं एचडीएसपी यंग स्टार से निकलना चाहता हूं, क्या यह उचित रहेगा?


जवाब: आप दोनों की पॉलिसी में 5 प्रीमियम का भुगतान कर चुके हैं तो पॉलिसी सरेंडर करने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। ऐसे में यदि आप प्लान से निकलना चाहते हैं तो निकल सकते हैं। लेकिन एचडीएफसी यंग स्टार एक अच्छा प्लान है, इसमें आगे अच्छे रिटर्न भी देखने को मिल सकते हैं। हालांि एलआईसी जीवन आनंद में कुछ खास रिटर्न नहीं है। बेहतर होगा एलआईसी जीवन आनंद से निकल कर उन पैसों को पीपीएफ में डालें।


सवाल: मेरी मां ने साल 2009 में आईडीबीआई में 1 लाख रुपये की एफडी की थी। अब एफडी मैच्योर हो चुकी है, लेकिन एफडी के पैसे खाते में अब तक नहीं आए हैं। बैंक भुगतान से पहले सक्सेशन सर्टिफिकेट मांग रहा है, क्या करूं?


जवाब: बैंक की मांग गलत नहीं है, ऐसे अक्सर बैंकों की ओर से मांगा जाता है। भविष्य में एफडी के पैसों के लिए कोई और दावा ना करें, इसके लिए सक्सेशन सर्टिफिकेट बैंक मांगता है। लेकिन फिर भी आप बैंक से लिखित में मांगे की वह इसे क्यों मांग रहा है। चाहें को इसके लिए आप किसी अच्छे जानकार या वकील की मदद ले सकते हैं।


वीडियो देखें