Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: गृहलक्ष्मी ही है धनलक्ष्मी

प्रकाशित Sat, 08, 2014 पर 13:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

महिला दिवस के मौके पर योर मनी अपनी खास पेशकश में लेकर आया है महिलाओं की फाइनेंशियल प्लानिंग से जुड़े सवाल। सवालों का जवाब दे रहे हैं फाइनेंशियल प्लानर गौरव मशरूवाला


सवाल: घर में पति और 2 बच्चे हैं। मैंने पीपीएफ में 15 लाख रुपये, म्यूचुअल फंड में 3 लाख रुपये जमा किए हैं। इसके अलावा 5 लाख रुपये की एफडी है और करीब 2 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी भी है। घर के लिए एक लोन भी भर रही हूं। 5 साल बाद बेटी की पढ़ाई के लिए 2 करोड़ रुपये की जरूरत है। वहीं एक फॉरेन टूर की योजना है। क्या मौजूदा निवेश से लक्ष्य हासिल हो सकते हैं?


जवाब: आपका पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो है, यह काफी बेहतर है। लेकिन आपको अपने लक्ष्यों के मुताबिक निवेश की रणनीति बनाना होगा। बेटी की पढ़ाई के लिए ज्यादा से ज्यादा रकम इक्विटी में लगाएं। वहीं जब लक्ष्य को समय करीब आए तो उस रकम को डेट फंड में डाल दीजिए ताकि जोखिम की संभावनाएं कम हो जाएं। एफडी के पैसों से घर का लोन चुकाएं, क्योंकि लोन के पीछे ब्याज काफी देना होता है।


सवाल: मैं म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहती हूं। फिलहाल पीपीएफ में 1.20 लाख रुपये हैं, एलआईसी जीवन सरल में सालाना 6,030 रुपये का प्रीमियम देती हूं। हर महीने करीब 20,000 रुपये की बचत होती है। 2-3 साल में कार लेना चाहती हूं, वहीं आगे चलकर बच्चों की पढ़ाई के लिए 15-20 लाख रुपये चाहिए?


जवाब: आप जितना ज्यादा से ज्यादा निवेश कर सकते हैं कीजिए। 20,000 रुपयों की बचत में 10,000 रुपये आरडी अथवा डेट फंड में डालें। बाकी के 10,000 रुपये लंबी अवधि के लक्ष्य के लिए इक्विटी में जमा करें। आरडी के पैसों से 3 साल बाद गाड़ी ले सकते हैं। वहीं गाड़ी लेने के बाद आरडी में डाले जाने वाले 10,000 रुपये इक्विटी में डाल दें। इससे लंबी अवधि के लक्ष्य आसानी से हासिल हो जाएंगे। आईसीआईसीआई फोक्स्ड ब्लूचिप और आईसीआईसीआई डिस्कवरी फंड में पैसे लगाना बेहतर रहेगा।


वीडियो देखें