Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनी: रिस्क कवर के लिए टर्म प्लान बेहतर

निवेश करते समय किस तरह करें प्लानिंग ताकि भविष्य के वित्तीय लक्ष्य को आसानी से हासिल किया जा सके।
अपडेटेड Mar 20, 2014 पर 09:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

वाइज इंवेस्टा एडवाइजर्स के हेमंत रुस्तगी बता रहे हैं निवेश करते समय किस तरह करें प्लानिंग ताकि भविष्य के वित्तीय लक्ष्य को आसानी से हासिल किया जा सके।


सवाल: मेरी उम्र 32 साल है, मैंने पास एलआईसी जीवन मित्र की 2 पॉलिसी में निवेश किया है। इसके अलावा एचडीएफसी का क्लिक टू प्रोटेक्ट टर्म प्लान भी है। जिसका कवर 50 लाख रुपये है। क्या मुझे और टर्म प्लान लेने की जरूरत है?


जवाब: एचडीएफसी लाइफ का क्लिक टू प्रोटेक्ट प्लान एक बढ़िया प्लान है। लेकिन आपका कवर करीब 1 करोड़ रुपये तक होना चाहिए। ऐसे में एसी प्लान में राइडर लेकर कवर बढ़ा सकते हैं। रिस्क कवर के लिए टर्म प्लान पर्याप्त है। ऐसे में एलआईसी जीवन मित्र को दोनों पॉलिसी से निकल सकते हैं। वहीं ये पैसे एसआईपी के जरिए म्यूचुअल फंड में डाले तो बेहतर होगा।


सवाल: मेरी उम्र 31 साल और सालाना आय 40,000 रुपये है। मैं लंबी अवधि के नजरिए से म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहता हूं। मेरे पास 50 लाख रुपये कवर का टर्म प्लान भी है। इसके अलावा ऐसे निवेश भी बताएं जहां टैक्स की बचत हो सके?


जवाब: आपकी मौजूदा आय के अनुसार टर्म प्लान का कवर पर्याप्त है। लेकिन आय बढ़ने के साथ-साथ कवर भी बढ़ाते जाएं। लंबी अवधि के निवेश के लिए इक्विटी का विकल्प बेहतर है। लेकिन पहले अपने लक्ष्यों को आकलन करें और उसके मुताबिक ही म्यूचुअल फंड में पैसे लगाएं। टैक्स बचत के लिए ईएलएसएस अथवा पीपीएफ में निवेश कर सकते हैं।


सवाल: ऑनलाइन प्लान और ऑफलाइन प्लान में क्या अंतर होता है। दोनों में से किस विकल्प से प्लान खरीदना ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है?


जवाब: इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा ज्यादातर प्लान को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों की तरीके से खरीदने की सुविधा दी जाती है। ऑनलाइन प्लान खरीदना ज्यादा फायदेमंद और सुविधाजनक होता है। ऑनलाइन प्लान, ऑफलाइन प्लान की तुलना में सस्ते भी होते हैं। ऑनलाइन प्लान में एक्सपेंस रेश्यो कम होता है।


वीडियो देखें