Moneycontrol » समाचार » ब्रोकर रिपोर्ट - बाजार

नोटबंदी का असर, जीडीपी का अनुमान घटाया

डिमोनेटाइजेशन यानि नोटबंदी के बाद दिग्गज ब्रोकर्स ने जीडीपी अनुमान घटा दिया है।
अपडेटेड Nov 21, 2016 पर 12:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

डिमोनेटाइजेशन यानि नोटबंदी के बाद दिग्गज ब्रोकर्स ने जीडीपी अनुमान घटा दिया है। एंबिट कैपिटल के मुताबिक छोटी अवधि में डिमोनेटाइजेशन का इकोनॉमी पर असर दिख सकता है। एंबिट कैपिटल ने वित्त वर्ष 2017 में जीडीपी का अनुमान 6.8 फीसदी से घटाकर 3.5 फीसदी कर दिया है। वित्त वर्ष 2018 में जीडीपी का अनुमान 7.3 फीसदी से घटाकर 5.8 फीसदी कर दिया है। सितंबर-मार्च 2017 में जीडीपी 6.4 फीसदी से घटकर 0.5 फीसदी हो सकती है।


सिटी के मुताबिक वित्त वर्ष 2017 में ग्रोथ घटकर 7.2 फीसदी रहने की आशंका है, जबकि डिमोनेटाइजेशन से पहले 7.7 फीसदी की जीडीपी रहने का अनुमान था। वहीं सिटी का कहना है कि अगर आरबीआई ने दरें घटाईं तो वित्त वर्ष 2018 में 7.4 फीसदी की ग्रोथ संभव है।


कोटक बैंक का कहना है कि रियल्टी, रिटेल और होटल सेक्टर पर डिमोनेटाइजेशन का असर दिख सकता है। सर्विस सेक्टर का जीडीपी में 30 फीसदी हिस्सा है। केयर के मुताबिक वित्त वर्ष 2017 में जीडीपी 0.3-0.5 फीसदी घटने की आशंका है।


इक्रा ने डिमोनेटाइजेशन की वजह से ग्रोथ अनुमान 0.4 फीसदी घटाया है। बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच के मुताबिक डिमोनेटाइजेशन से जीडीपी में 0.5 फीसदी गिरावट संभव है। एचडीएफसी बैंक ने जीडीपी अनुमान 7.8 फीसदी से घटाकर 7.3 फीसदी कर दिया है।