Moneycontrol » समाचार » ब्रोकर रिपोर्ट - बाजार

काले धन पर बड़ा फैसला, क्या कह रहे हैं ब्रोकरेज हाउसेज

सरकार का बड़ा कदम सामने आया है, इस पर ब्रोकरेज हाउसेज के रिएक्शन भी आ रहे हैं।
अपडेटेड Nov 09, 2016 पर 10:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

काले धन पर लगाम लगाने के लिए सरकार का बड़ा कदम सामने आया है, इस पर ब्रोकरेज हाउसेज के रिएक्शन भी आ रहे हैं।


ब्लैक मनी रिफॉर्म पर सीएलएसए


सीएलएसए का मानना है कि सरकार के इस कदम से कारोबार करना आसान होगा, ऑर्गेनाइज्ड सेक्टर को फायदा होगा और टैक्स देने वालों की संख्या बढ़ेगी। टैक्स/जीडीपी रेश्यो में सुधार होगा, जिससे टैक्स दरें कम होने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही प्रॉपर्टी के दाम गिरेंगे, महंगाई कम होगी।


हालांकि सीएलएसए का ये भी कहना है कि सरकार के इस कदम से खेती से जुड़ी जमीन के दाम गिरने से रूरल इकोनॉमी सुस्त पड़ सकती है। सीमेंट और कार, 2-व्हीलर जैसे कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की बिक्री पर असर दिख सकता है। डाबर और गोदरेज कंज्यूमर जैसी कंपनियों पर असर देखने को मिल सकता है।


सीएलएसए के मुताबिक बैंकों की कासा ग्रोथ बढ़ेगी, लेकिन लोन लेने की रफ्तार नहीं बढ़ेगी। एसेट क्वालिटी को लेकर बैंकों और एनबीएफसी पर दबाव होगा। दिसंबर तिमाही में कंपनियों के नतीजों और जीडीपी पर निगेटिव असर दिख सकता है। यूपी चुनाव पर गहरा असर नजर आ सकता है।


ब्लैक मनी रिफॉर्म पर क्रेडिट सुईस


क्रेडिट सुईस के मुताबिक सरकार के इस कदम से आईटी और टेलीकॉम सेक्टर पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा। ऑटो, फार्मा, ऑयल मार्केटिंग कंपनियों और एनबीएफसी पर छोटी अवधि में असर देखने को मिलेगा। बैंक, ज्वैलरी, रियल एस्टेट पर सबसे ज्यादा असर देखने को मिल सकता है।


ब्लैक मनी रिफॉर्म पर गोल्डमैन सैक्स


गोल्डमैन सैक्स का कहना है कि ज्वेलरी और रेस्त्रां कारोबार पर नकारात्मक असर देखने को मिल सकता है। फूड, बेव्रेजेज, हाउसहोल्ड और पर्सनल केयर पर असर दिखेगा। तंबाकू पर नकारात्मक असर होगा।