वित्त मंत्री ने सदन में पेश किया बजट

लोकसभा की कार्रवाई शुरु होने के साथ ही वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने सदन के सामने बजट पेश कर दिया है।
अपडेटेड Feb 01, 2019 पर 11:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

लोकसभा की कार्रवाई शुरु होने के साथ ही वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने सदन के सामने बजट पेश कर दिया है। ये मोदी सरकार का सबसे अहम बजट है। बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि भारत विकास के पथ पर अग्रसर है। पीएम मोदी के नेतृत्व में देश को भ्रष्टाचार मुक्त सरकार मिली है। सरकार ने कई बड़े आर्थिक सुधार किए है और न्यू इंडिया के लिए कई योजनाओं की नींव रखी है। सरकार का 2022 तक न्यू इंडिया बनाने का लक्ष्य है।


उन्होंने आगे कहा कि भारत दुनिया में तेजी से बढ़ती इकोनॉमी है। भारत दुनिया की सबसे बड़ी इकोनॉमी है। सरकार ने अपनी कोशिशों से कमर तोड़ महंगाई की कमर तोड़ दी है। महंगाई पर नियंत्रण करना सरकार की बड़ी कामयाबी है। यूपीए -2 के समय देश में औसत महंगाई 10 फीसदी से ज्यादा थी।


वित्त मंत्री ने अपने बयान में कहा कि देश के संसाधनों पर पहला अधिकार गरीबों का है। गरीब को नौकरियों, शिक्षा संस्थानों में आरक्षण दिया गया है। रेरा और बेनामी संपत्ति कानून से पारदर्शिता आई है। वहीं बैंकिंग सेक्टर पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि कई सारे बैंक जल्द ही पीसीए से बाहर होंगे। बैंकिंग सेक्टर में तेजी से सुधार हो रहा है। साथ ही बैंकों के विलय पर काम जारी है। अभी तक 3 लाख करोड़ रुपये के एनपीए की रिकवरी हुई है। देश में निवेश के माहौल पर बोलते हुए एफएम ने कहा कि 5 साल में 23,900 करोड़ डॉलर का एफडीआई आया है। ज्यादातर एफडीआई ऑटोमेटिक रूट के जरिए आए है। वित्तीय स्थिति पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2019 में वित्तीय घाटा 3.4 फीसदी रहने का अनुमान है जबकि करेंट अकाउंट घाटा 2.5 फीसदी रहेगा।