बजट प्रिटिंग का काम अंतिम दौर में

एक फरवरी को अंतरिम बजट पेश होना है और इसके लिए बजट प्रिटिंग का काम अंतिम दौर में हैI
अपडेटेड Jan 30, 2019 पर 16:43  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एक फरवरी को अंतरिम बजट पेश होना है और इसके लिए बजट प्रिटिंग का काम अंतिम दौर में हैI हलवा सेरेमनी के बाद से बजट से जुड़े कर्माचारी और अधिकारी बाहरी दुनिया से पूरी तरह कटे हुए हैं और वित्त मंत्रालय समेत पूरे नॉर्थ ब्लॉक में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई हैI पिछले हफ्ते सोमवार को बजट प्रिंटिंग की औपचारिक शुरुआत से पहले वित्तमंत्रालय में हलवा सेरेमनी हुईI दरअसल कोई भी शुभ कार्य मीठे के साथ शुरू करने की भारतीय परंपरा बजट पर भी लागू होती हैI


दरअसल बजट डॉक्यूमेंट की गोपनीयता बरकरार रखने के लिए प्रिटिंग का काम वित्तमंत्रालय के बेसमेंट में बने सीक्रेट प्रिटिंग प्रेस में होता हैI जहां किसी को आने-जाने की अनुमति नहीं हैI प्रिटिंग प्रेस में सिर्फ एक लैंडलाइन फोन हैं जिसमें सिर्फ इनकमिंग की फैसलिटी होती है साथ ही चुनिंदा अफसरों के अलावा यहां किसी को भी आने की इजाजत नहीं हैI


बजट डॉक्यूमेंट प्रिंटिंग शुरूआत में ब्लू शीट की प्रिटिंग से होती है जिसमें अर्थव्यवस्था और बजट से संबंधित सभी आंकड़े होते हैंI इस ब्लूशीट को रखने की इजाजत वित्तमंत्री तक को भी नहीं होती हैI नया आंकड़ा आते ही इसे अपडेट किया जाता हैI ब्लू शीट में बजट प्रस्ताव के अलावा अगले साल के खर्च की योजनाएं भी होती हैI बजट की सीक्रेट प्रिंटिंग 1950 तक राष्ट्रपति भवन के अंदर की जाती थी लेकिन 1950 में बजट लीक हो गया और उसके बाद से ये सरकारी प्रिटिंग प्रेस मिन्टो रोड में शिफ्ट कर दिया गयाI साल 1981 से नॉर्थब्लॉक के अंदर बने वित्तमंत्रालय के बेसमेंट में प्रिंटिंग प्रेस में बजट छपने लगाI तब से बजट की प्रिटिंग यहीं होती हैI