Union Budget 2021: जल -जीवन मिशन के लिए 2.87 लाख करोड़ रुपये का आवंटन

जल -जीवन मिशन 2019 में पीएम मोदी द्वारा लॉन्च किया गया था। यह जल शक्ति मिनिस्टरी की तहत शुरु किया गया क्रेंद सरकार का मिशन है जिसका मकसद 2024 तक हर ग्रामीण हाउस होल्ड को पाइप्ड वाटर पहुंचाना है।
अपडेटेड Feb 01, 2021 पर 17:23  |  स्रोत : Moneycontrol.com

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने 1 फरवरी को अपने बजट भाषण में ऐलान किया कि वित्त वर्ष 2021-22 के लिए अर्बन जल-जीवन मिशन के लिए 2.87 लाख करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। यह ऐलान सरकार के उस योजना का हिस्सा है जिसका मकसद 2024 तक देश के हर घर तक पाइप्ड वाटर कनेक्शन पहुंचाना है।


बता दें कि पिछले बजट में इस मद में 11,500 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया था। फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमन ने अपने बजट भाषण के दौरान कहा कि World Health Organisation ने बार-बार स्वच्छ जल, साफ -सफाई और साफ पर्यावरण पर जोर दिया है जिससे की आम आदमी का स्वास्थ्य बेहतर रह सके। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर जल-जीवन मिशन अर्बन की लॉन्चिंग की जा रही है।


उन्होंने आगे कहा कि इस मिशन का लक्ष्य सभी 4,378 अर्बन लोकल बॉडीज में यूनिवर्सल वाटर सप्लाई सूनिश्चित करना और 500 AMRIT शहरों में लिक्विड बेस्ड मैनेजमेंट उपलब्ध कराना है। यह योजना 2.78 लाख करोड़ रुपये के फंड से 5 साल के अंदर लागू की जाएगी।


जल -जीवन मिशन 2019 में पीएम मोदी द्वारा लॉन्च किया गया था। यह जल शक्ति मिनिस्टरी की तहत शुरु किया गया केंद्र सरकार का मिशन है जिसका मकसद 2024 तक हर ग्रामीण हाउस होल्ड को पाइप्ड वाटर पहुंचाना है।


सरकार ने आने वाले वर्षों में इस स्कीम पर 3.60 लाख करोड़ रुपये खर्च करने का लक्ष्य  रखा है। पीएम मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में तमाम अलग-अलग वाटर मिनिस्ट्री को एक सिंगल पोर्टफोलियों में बदल दिया है जिसको जल शक्ति मिनिस्ट्री के नाम से जाना जाता है। यह मिनिस्ट्री प्रदूषति नदियों और साफ पेय जल की कमी जैसे मुद्दों पर काम करता है।


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने  वित्त वर्ष 2019-20 के अपने बजट भाषण में हर घर नल से जल प्रोगाम का ऐलान किया था जो जल-जीवन मिशन  का अहम हिस्सा है।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।