Tomatao Prices: अभी और "लाल" करेगा टमाटर, अगले दो महीने तक नहीं कम होने वाली है कीमत: क्रिसिल

Tomatao Prices: अभी और "लाल" करेगा टमाटर, अगले दो महीने तक नहीं कम होने वाली है कीमत: क्रिसिल

क्रिसिल रिसर्च ने कहा कि लगातार और अधिक बारिश के कारण सब्जियों की कीमतों में तेजी आई है

अपडेटेड Nov 26, 2021 पर 9:15 PM | स्रोत : Moneycontrol.comTomatao Prices

Tomatao Prices: क्रिसिल रिसर्च ने शुक्रवार को कहा कि लगातार और अधिक बारिश के कारण सब्जियों की कीमतों में तेजी आई है और टमाटर की कीमतों में अगले दो महीनों तक तेजी बरकरार रह सकती है। क्रिसिल ने कहा है कि टमाटर के प्रमुख उत्पादक क्षेत्रों में से एक कर्नाटक में स्थिति इतनी गंभीर है कि इस सब्जी को महाराष्ट्र के नासिक से भेजा जा रहा है।

क्रिसिल रिसर्च ने कहा कि जिन राज्यों में टमाटर की सबसे अधिक खेती होती है, उनमें अक्टूबर-दिसंबर की अवधि के दौरान कर्नाटक (सामान्य से 105 फीसदी अधिक), आंध्र प्रदेश (सामान्य से 40 फीसदी अधिक) और महाराष्ट्र (सामान्य से 22 फीसदी) में अधिक बारिश होने के कारण खड़ी फसलों को नुकसान हुआ है। इन्हीं राज्यों में सबसे अधिक टमाटर होता है।

एजेंसी ने कहा है कि 25 नवंबर तक कीमतों में 142 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है और मध्य प्रदेश और राजस्थान से फसल की कटाई जनवरी से शुरू होने तक दो और महीनों के लिए कीमतें अधिक बनी रहेगी। एजेंसी ने कहा है कि मौजूदा समय में, देश के कई हिस्सों में टमाटर 100 रुपये प्रति किलो बिक रहा है और ताजा आवक शुरू होने के बाद कीमत में 30 फीसदी की तुरंत गिरावट आएगी।

क्रिसिल ने अपनी रिपोर्ट में प्याज की स्थिति के बारे में भी बताया है। एजेंसी ने बताया कि अगस्त में कम बारिश के कारण महाराष्ट्र के प्रमुख उत्पादक क्षेत्रों में रोपाई में देरी हुई, जिसके कारण अक्टूबर में आवक में देरी हुआ। इससे सितंबर की तुलना में प्याज की कीमतों में 65 फीसदी की वृद्धि हुई। हालांकि, प्याज के मामले में, हरियाणा से ताजा आवक 10-15 दिनों में शुरू होने की उम्मीद है, जिससे कीमतों में गिरावट आएगी।

वहीं उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार और गुजरात में अत्यधिक बारिश के कारण रबी की एक और अहम फसल आलू की बुवाई का मौसम बुरी तरह प्रभावित हुआ है। शोधकर्ताओं की स्थानीय किसानों के साथ बातचीत के अनुसार खेतों में अत्यधिक जलजमाव से आलू के कंदों की फिर से बुवाई की जा सकती है, जिससे किसानों की लागत बढ़ सकती है। अगर भारी बारिश जारी रही, तो दो और महीनों के लिए कीमतें अधिक होंगी।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Nov 26, 2021 9:15 PM