Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

COMMODITY MARKET: जारी है सोने का गोल्डन रन, क्या अब भी बाकी है निवेश का मौका!

पिछले साल शानदार रिटर्न देने के बाद इस साल भी सोने में बुल रन जारी है।
अपडेटेड Feb 22, 2020 पर 11:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पिछले साल शानदार रिटर्न देने के बाद इस साल भी सोने में बुल रन जारी है। MCX पर सोने के दाम नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गए हैं। कोरोना वायरस के कारण सोने में सेफ हेवन डिमांड देखने को मिल रही है। पिछले 1 महीने में ही दाम करीब 5 प्रतिशत बढ़ चुके हैं। इस शानदार तेजी के बाद अब सोने की चाल कैसी रहेगी। क्या सोने में अभी भी निवेश का मौका है और अगर निवेश करना है तो कौन से सबसे अच्छे विकल्प हैं इसी पर आज GOLDE RUN में बात करेंगे। इस चर्चा में सीएनबीसी-आवाज़ के साथ CNBC-TV18 की कमोडिटी एडिटर मनीषा गुप्ता, Tata Asset Management के अरुबिंदा प्रसाद गयान, AnandRathi Pvt Wealth Management की फिरोज अजीज, IndiaNivesh Commodities के मनोज कुमार जैन जुड़ गये हैं।


नए शिखर पर सोना


MCX पर सोने ने नया रिकॉर्ड स्तर बनाया है। COMEX पर सोना 7 साल के ऊपरी स्तर पर पहुंच गया है। कोरोना वायरस के कारण सोने में सेफ हेवन डिमांड बनी हुई है। इकोनॉमी को बूस्ट देने के लिए चीन ने दरें घटाईं हैं। पिछले 1 साल में सोने ने दिए करीब 25 प्रतिशत रिटर्न दिये हैं।


गोल्ड में निवेश


सोने में निवेश महंगाई का सुरक्षा कवच माना जाता है। अनिश्चित माहौल में सोने में निवेश बेहतर होता है। पोर्टफोलियो में गोल्ड होना अहम बात होती है। पोर्टफोलियो में 10-15 प्रतिशत ही निवेश गोल्ड में करना चाहिए। गोल्ड बॉन्ड, ETF में निवेश सही रणनीति है। गोल्ड बॉन्ड में 2.5 प्रतिशत ब्याज भी मिलता है।


सोने में निवेश के विकल्प
गोल्ड बार, सिक्के और ज्वेलरी
गोल्ड ETF
गोल्ड बॉन्ड
गोल्ड सेविंग स्कीम


गोल्ड बॉन्ड में निवेश


यह गोल्ड बॉन्ड सरकार की ओर से RBI जारी करता है। इसे डीमैट फॉर्म में रखने की सुविधा होती है। गोल्ड बॉन्ड NSE, BSE पर ट्रेड होता है। कोई एक्स्ट्रा या हिडन चार्ज नहीं होता है। इसमें सोने की शुद्धता की परेशानी नहीं होती है। इस पर रनिवेशकों को सालाना 2.5 प्रतिशत ब्याज भी मिलेगा। इसमें निवेश करने से हर छमाही में निवेशक को ब्याज मिलता है।


गोल्ड ETF


गोल्ड ETF एक्सचेंज में ट्रेड होता है। गोल्ड ETF की यूनिट में निवेश कर सकते हैं। गोल्ड ETF के दाम अलग-अलग हो सकते हैं। गोल्ड ETF में ब्रोकरेज और डीमैट चार्ज लगता है।


गोल्ड सेविंग फंड


गोल्ड सेविंग फंड में SIP कर सकते हैं। गोल्ड सेविंग फंड किसी MF से खरीद सकते हैं। हर गोल्ड सेविंग फंड की NAV एक जैसी होती है। गोल्ड सेविंग फंड में ब्रोकरेज और डीमैट चार्ज नहीं लगता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।