Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

अरहर-उड़द वायदा फिर शुरू करने की तैयारी, एग्री में क्या करें

प्रकाशित Mon, 10, 2018 पर 11:45  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कमोडिटीज मार्केट का फोकस आज रुपये पर ही है। डॉलर के मुकाबले रुपया फिसलकर 72.38 रुपये के नए रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया है। इसका असर सबसे ज्यादा कच्चे तेल पर दिखा है जिसमें करीब 1 फीसदी का उछाल देखने को मिला। अमेरिका में घटते रिग काउंट और ईरान पर प्रतिबंध से क्रूड को दोहरा सपोर्ट मिल रहा है। रुपये में कमजोरी के कारण बेस मेटल्स में भी खरीदारी देखने को मिल रही है। जिंक और लेड करीब 0.5 फीसदी बढ़े हैं।


हालांकि, सोना छोटे दायरे में है। रुपये में गिरावट के बावजूद सोने में मामूली बढ़त देखने को मिल रही है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कमजोरी से सोने पर दबाव देखने को मिल रहा है। अमेरिका में दरें बढ़ने की संभावना से कॉमेक्स पर सोना कमजोर है। सितंबर में अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ सकती हैं।


रुपये का असर खाने के तेलों पर भी देखने को मिल रहा है। पॉम और सोया तेल में करीब 0.5 फीसदी की तेजी है। अच्छी हाजिर मांग से सरसों में तेजी देखने को मिल रही है। एनसीडीईएक्स पर सरसों का दाम करीब 1.25 फीसदी बढ़ा है। उधर सोयाबीन और सोया तेल में भी खरीदारी देखने को मिल रही है। मसालों में भी आज तेजी का रुख है। हल्दी में 1 फीसदी से ज्यादा की बढ़त नजर आ रही है, धनिया और जीरे में भी तेजी है। इस बीच सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि एनसीडीईएक्स अरहर और उड़द का वायदा फिर से शुरू करने की तैयारी में, इसके लिए एनसीडीईएक्स ने सेबी से मंजूरी मांगी है। बता दें कि साल 2006 में अरहर और उड़द वायदा पर रोक लगी थी।


निर्मल बंग कमोडिटीज की निवेश सलाह


सोना एमसीएक्स: खरीदें, स्टॉपलॉस - 30350, लक्ष्य - 30490


निकेल एमसीएक्स: खरीदें - 885, स्टॉपलॉस - 873.5, लक्ष्य - 904