Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

खरीफ फसलों की आवक में देरी, जानिये एग्री कमोडिटी में कहां होगी फटाफट कमाई

खरीफ फसलों की आवक में देरी से गेहूं, चना, सरसों जैसी रबी फसलों की बुआई में भी लेट होने के आसार हैं।
अपडेटेड Oct 30, 2019 पर 17:36  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देर से चले मॉनसून सीजन के कारण ज्यादातर खरीफ फसलों की आवक अभी पिछले साल के मुकाबले कम है। सोयाबीन, धान, मक्का, कॉटन जैसी फसलों की आवक पिछले साल 5 से 50 प्रतिशत तक कम बताई जा रही है। खरीफ फसलों की आवक में देरी से गेहूं, चना, सरसों जैसी रबी फसलों की बुआई में भी लेट होने के आसार हैं। इससे रबी उत्पादन पर कितना असर पड़ सकता है इस पर बात करने के लिए सीएनबीसी-आवज़ के साथ Shivaji Flour Mills के अजय गोयल और Agri Farmer and Trade Association के General Secretary सुनील बलदेवा जुड़ गये हैं।


कच्चे तेल की बात करें तो अमेरिका में भंडार बढ़ने की संभावना से कच्चे तेल पर दबाव बना हुआ है। घरेलू बाजार में करीब 0.5 प्रतिशत की गिरावट देखी जा रही है। ब्रेंट में 61 डॉलर के ऊपर कारोबार हो रहा है। API के मुताबिक US में भंडार 12 लाख बैरल बढ़ा है। वहीं US-चीन के बीच डील में देरी की आशंका से कमजोरी बनी हुई है।


अमेरिका में ब्याज दरों पर फैसले से पहले सोने में बढ़त दिखाई दे रही है। कॉमेक्स पर करीब 0.25 प्रतिशत की बढ़त देखी जा रही है। सोने में घरेलू बाजार में 38 हजार के करीब कारोबार हो रहा है जबकि चांदी में भी मजबूती नजर आ रही है।


सोने में US फेडरल रिजर्व के फैसले से पहले बढ़त दिखाई दे रही है। दूसरी तरफ रुपए में कमजोरी से भी सोने को सहारा मिला है। आज देर रात ब्याज दरों पर Fed का फैसला आयेगा जिसमें अमेरिका में दरें 0.25 प्रतिशत घटने की उम्मीद है। इसमें US-चीन के बीच डील में देरी से सपोर्ट मिल रहा है। वहीं, US में कंज्यूमर कॉन्फिडेंस लगातार तीसरे महीने गिरा है।


अच्छे ग्लोबल संकेतों से निकेल और एल्युमिनियम में बढ़त के साथ कारोबार हो रहा है। MCX पर निकेल 0.5 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ा है। लेकिन कॉपर जिंक छोटे दायरे में कारोबार कर रहा है। दूसरी तरफ निकेल में तेजी दिख रही है। विदेशी बाजारों में बढ़त से इसकी कीमतों को सपोर्ट मिला है। इंडोनेशिया 1-2 हफ्ते में एक्सपोर्ट फिर शुरू कर सकता है।


उधर कॉपर छोटे दायरे में कारोबार कर रहा है। LME में कॉपर 6 हफ्ते के ऊपरी स्तर से फिसला है। US-चीन के बीच डील में देरी की आशंका से दबाव बना हुआ है। वहीं रुपए में कमजोरी से घरेलू कीमतों को सपोर्ट मिला है जबकि चीन और अमेरिका में कॉपर की डिमांड सुस्त दिखाई दे रही है।


खाद्य तेलों की बात करें तो खाने के तेल और तिलहन में तेजी नजर आ रही है। विदेशी बाजारों से अच्छे संकेतों से सोया तेल और CPO 0.5 प्रतिशत से ज्यादा बढ़े हैं। सरसों और सोयाबीन मे भी बढ़त दिखाई दी है। दूसरी तरफ मलेशियाई और अमेरिकी बाजारों में तेल-तिलहनों में मजबूती दिखाई दी है। मलेशियाई CPO में लगातार 6वें दिन बढ़त नजर आ रही है। उधर CBOT सोया तेल, सोयाबीन में भी मजबूती नजर आ रही है। सूत्रों के मुताबिक भारत रिफाइंड तेल पर ड्यूटी बढ़ा सकता है।


HDFC securities के तपन पटेल की ट्रेडिंग टिप्स


एमसीएक्स चांदी (दिसंबर): खरीदें-45900 रुपये, लक्ष्य-46300 रुपये, स्टॉपलॉस-45700 रुपये


एमसीएक्स निकेल (नवंबर): खरीदें-1205 रुपये, लक्ष्य-1230 रुपये, स्टॉपलॉस-1185 रुपये


Paradigm Commodity के बीरेन वकील की ट्रेडिंग टिप्स


एनसीडीईएक्स सोयाबीन (दिसंबर): बेचें-38300 रुपये, लक्ष्य-3750 रुपये, स्टॉपलॉस-3860 रुपये


एनसीडीईएक्स ग्वार (नवंबर): बेचें-4050 रुपये, लक्ष्य-3950 रुपये, स्टॉपलॉस-4090 रुपये


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।