Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी न्यूज

अप्रैल-अक्टूबर महीने में गोल्ड इम्पोर्ट 9 फीसदी घटा

गोल्ड के आयात में इस साल जुलाई महीने में गिरावट आई है। हालांकि अक्टूबर में तकरीबन 5 फीसदी बढ़कर 1.84 अरब डॉलर रहा।
अपडेटेड Nov 25, 2019 पर 11:41  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कॉमर्स मिनिस्ट्री के डाटा के मुताबिक, देश में गोल्ड का इम्पोर्ट (आयात) अप्रैल-अक्टूबर 2019 के दौरान 9 फीसदी घटकर 17.63 अरब डॉलर रह गया।  2018-19 की समान अवधि में यलो मेटल्स का आयात 19.4 अरब डॉलर का रहा था। गोल्ड के आयात में कमी से फिस्कल ईयर 2019-20 में अप्रैल-अक्टूबर के दौरान ट्रेड डिफिसेट (व्यापार घाटा) 94.72 अरब डॉलर रहा, जो कि इसके पिछले फिस्कल ईयर की इसी अवधि में 116.15 अरब डॉलर था।


गोल्ड के आयात में इस साल जुलाई महीने में गिरावट आई है। हालांकि अक्टूबर में तकरीबन 5 फीसदी बढ़कर 1.84 अरब डॉलर रहा। बता दें कि भारत गोल्ड का सबसे बड़ा आयातक देश है। जो मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करता है।  देश में सालाना 800-900 टन गोल्ड आयात होता है। 


ट्रेड डेफिसेट और चालू खाते के घाटे पर गोल्ड के आयात में आई निगेटिविटी को खत्म करने के लिए, सरकार ने इस साल के बजट में गोल्ड पर इम्पोर्ट ड्यूटी 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी कर दिया है। ऐसे में इंडस्ट्री के जानकारों का कहना है कि हाई ड्यूटी बढ़ाने से इस सेक्टर में काम कर रही कंपनियां अपना मैन्युफैक्चरिंग बेस पड़ोसी देशों में शिफ्ट कर रही हैं।


The Gems and Jewellery Export Promotion Council (GJEPC) ने इम्पोर्ट ड्यूटी में 4 फीसदी की कटौती करने के लिए कहा था।


Gems and Jewellery (रत्न और आभूषण) एक्सपोर्ट( निर्यात) करेंट फिस्कल ईयर के अप्रैल-अक्टूबर के दौरान तकरीबन 2 फीसदी घटकर 18.3 अरब डॉलर रहा। देश में गोल्ड का आयात पिछले फिस्कल ईयर 2018-19  में तकरीबन 3 फीसदी घटकर 32.8  अरब डॉलर रहा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।