Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

सोने ने छुआ रिकॉर्ड स्तर, आगे कैसे रहेगी इसकी चाल

प्रकाशित Fri, 12, 2019 पर 17:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कमोडिटी आउटलुक में सीएनबीसी-आवाज़ की नजर हफ्ते की सबसे हॉट कमोडिटी पर होती है और इस हफ्ते सोने ने चौंका दिया है। घरेलू बाजार में ये रिकॉर्ड स्तर छू चुका है। ग्लोबल मार्केट में तेजी और घरेलू स्तर पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ने से सोना एकाएक महंगा हो गया है। बाजार की नजर अब इस महीने के अंत में होने वाली फेड की बैठक पर है।


माना जा रहा है कि इस बार अमेरिका में ब्याज दरें घट सकती हैं। तो क्या और चमकेगा सोना या बाजार सारी उम्मीदों को पचा चुका है। पिछले 6 महीनों में करीब 12 प्रतिशत रिटर्न के बाद सोने के लिए अगले 6 महीने कैसे रहने वाले हैं यह बताने के लिए सीएनबीसी-आवाज़ के साथ जुड़ रहे हैं Axis Securities के कमोडिटीज रिसर्च हेड सुनील कटके, मनीलीशियस कैपिटल के डायरेक्टर जय प्रकाश गुप्ता और निर्मल बंग कमोडिटीज के रिसर्च हेड कुणाल शाह।


सोना हुआ महंगा


इस हफ्ते सोने ने 35,145 का रिकॉर्ड स्तर छुआ। इस साल जनवरी से सोने का भाव 12 प्रतिशत उछला। पिछले एक साल में 17 प्रतिशत शानदार रिटर्न दिया है जबकि ग्लोबल मार्केट में 6 साल की ऊंचाई पर मौजूद है।


क्यों ब‍ढ़ा सोने का दाम?


US में ब्याज दरें घटने की उम्मीद से सोने के भाव में कमी देखी है। US फेड इस महीने दरें घटा सकता है। ट्रेड वॉर से ग्लोबल इकॉनोमी में सुस्ती आ सकती है। जून में ग्लोबल गोल्ड ETFs होल्डिंग 5 प्रतिशत बढ़ी है। भारत में इंपोर्ट ड्यूटी 10 प्रतिशत से बढ़कर 12 प्रतिशत हुई।


सोने का दीवाना चीन


पिछले 6 महीने से चीन ने सोने में खरीद की है। मई में चीन ने 16 टन सोना खरीदा जबकि दिसंबर में चीन ने 85 टन सोना खरीदा। इस साल चीन के 150 टन सोना खरीदने की उम्मीद है। पिछले साल चीन ने दुनिया का 15 प्रतिशत सोना खरीदा।


गोल्ड बॉन्ड एक फायदेमंद निवेश


FY20 का तीसरा चरण 5-9 अगस्त तक खुलेगा। ऑनलाइन पेमेंट पर 50 ग्राम की छूट दी गई है। सोने पर सालाना 1 ग्राम से 4 किलो तक निवेश किया जा सकता है। निवेश की रकम पर सालाना 2.5 प्रतिशत ब्याज मिलेगा। इसकी मियाद 8 साल है और 5 साल में इसमे से निकलने की सुविधा भी उपलब्ध है। गोल्ड बॉन्ड भारत सरकार की ओर से RBI जारी करता है।