Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

रबी फसलों की एमएसपी बढ़ाएगी सरकार

प्रकाशित Wed, 03, 2018 पर 07:54  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

विरोध को देखते हुए सरकार किसानों को खुश करने में जुटी है। सूत्रों से जानकारी मिली है कि केंद्र सरकार जल्द ही गेहूं और चना समेत 6 रबी फसलों का एमएसपी बढ़ा सकती है। आज आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमिटी की बैठक में इसका फैसला होने की उम्मीद है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक गेहूं की एमएसपी 105 रुपये बढ़ाकर 1840 रुपये करने, चने की एमएसपी 220 रुपये बढ़ाकर 4620 रुपये करने, मसूर की एमएसपी 225 रुपये बढ़ाकर 4475 रुपये करने, जौ की एमएसपी 30 रुपये बढ़ाकर 1440 रुपये करने और सूरजमुखी की एमएसपी 845 रुपये बढ़ाकर 4945 रुपये करने का प्रस्ताव है।


इस बीच दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर डटे हुए किसानों को मनाने के लिए सरकार ने उनकी 9 में से 7 मांगे मान ली हैं। किसान नेताओं के साथ गृह मंत्री राजनाथ सिंह की मुलाकात के बाद ये खबर आई है। लेकिन कर्ज माफी या स्वामीनाथन कमीशन की सिफारिशों को लागू करने पर सहमति नहीं बनी है। बताया जा रहा है कि सरकार ने फसलों के उचित दाम, फसल खरीदने की गारंटी, मनरेगा को कृषि से जोड़ने और पुराने पंपिंग सेट की इजाजत देने जैसी मांगे मान ली हैं। इसके बाद यूपी सरकार के दो मंत्री सुरेश राणा और चौधरी लक्ष्मी नारायण, और केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत दिल्ली की सीमा पर जाकर किसानों से मिलने पहुंचे। कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने किसानों को बताया कि सरकार कल ही उनकी मांगों पर कार्रवाई शुरू कर देगी।


लेकिन किसान नेता युद्धवीर सिंह ने कहा है कि सरकार कर्जमाफी और सी2 के आधार पर फसलों के दाम तय करने पर सहमत नहीं हुई है और ये किसानों के लिए निराशा की बात है। जबकि स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा है कि कर्ज माफी या फसल के सही दाम पर सरकार कुछ नहीं कर रही है इसलिए किसानों में गुस्सा है। सरकार ने अब भी कुछ नहीं किया तो 30 नवंबर को दिल्ली में इससे भी बड़ा किसान आंदोलन देखने को मिलेगा।


इससे पहले कल हरिद्वार से किसान क्रांति मोर्चा के बैनर तले पदयात्रा कर दिल्ली आ रहे किसान दिल्ली की सीमा पर उग्र हो गए। अपनी मांगों को लेकर दिल्ली कूच किए किसानों को पुलिस ने रोका तो किसानों ने ट्रैक्टर से पुलिस बैरिकेडिंग को तोड़ दिया। किसानों को रोकने के लिए पुलिस की ओर से रबर के बुलेट और आंसू गैस के गोले दागने पड़े। किसानों की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज भी करना पड़ा। बताया जा रहा है कि लाठी चार्ज और रबर बुलेट से अब तक तकरीबन 30 किसान घायल हो चुके हैं। पुलिस की ओर से बल प्रयोग करने पर ज्यादातर किसान फिर से यूपी गेट पर जाकर बैरिकेड के सामने बैठ गए।