Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

मुंबई समेत पूरे महाराष्ट्र में भारी बारिश का अलर्ट

प्रकाशित Mon, 09, 2018 पर 11:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज एक बार फिर से मुंबई पानी-पानी है। हालांकि अभी तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं, लेकिन शुक्रवार रात से रुक रुक कर हो रही बरसात ने अब रोजमर्रा के कामकाज को ब्रेक लगा दिया है। वीकेंड खत्म हुआ और आज जब लोग घरों से कामकाज के लिए निकले तो भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। ट्रेनें कैंसिल हो रही हैं, लोकल ट्रेन या तो देर से चल रही है या फिर कहीं-कहीं बंद भी हो रही हैं। ट्रैफिक कछुए की रफ्तार से चल रहा है। स्कूल, कॉलेजों में छुट्टी कर दी गई है।


मौसम विभाग के मुताबिक पिछले 24 घंटों में इस सीजन की सबसे ज्यादा बरसात हुई है। ग्रेटर मुंबई म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन के डिसास्टर मैनेजमेंट यूनिट ने लोगों को सलाह दी है कि हो सके तो घरों में ही रहें। आज रात 8 बजकर 19 मिनट पर हाई टाइड का भी अनुमान है। मौसम वैज्ञानिकों ने कहा है कि अभी बारिश 1-2 दिन तक जारी रह सकती है।


 महाराष्ट्र, गुजरात और मध्य प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में पिछले दो दिनों से भारी बारिश हो रही है और इसी बीच मौसम विभाग ने इन इलाकों में अगले चार दिन तक बारिश जारी रहने का अनुमान जताया है। मौसम विभाग ने मुंबई और आसपास के इलाकों में 2 दिनों के लिए और मध्य प्रदेश के लिए कल से 4 दिनों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। बारिश से कमोडिटी बाजार पर भी असर पड़ा है और फल सब्जियों की सप्लाई प्रभवित हुई है।


इस सीजन अब तक पंजाब, महाराष्ट्र और तेलंगाना में सामान्य से काफी ज्यादा बारिश हुई है। देश के करीब 65 फीसदी इलाकों में सामान्य या इससे ज्यादा बारिश हुई है। लेकिन उत्तर प्रदेश और सौराष्ट्र में इस सीजन बेहद कम बारिश हुई है। पूरे यूपी में सामान्य से करीब 45 फीसदी कम बारिश रिकॉर्ड की गई है, जबकि सौराष्ट्र में ये कमी 77 फीसदी तक है।


बारिश के इस पैटर्न की वजह से खरीफ की बुआई में करीब 14 फीसदी की गिरावट आई है। खास करके दाल, तिलहन और कपास की खेती काफी पिछड़ गई है। उत्तर प्रदेश और सौराष्ट्र में कम बारिश बुआई गिरी है। धान की बुआई 15 फीसदी गिरकर 67.25 लाख हेक्टेयर रही है। दाल की खेती में करीब 19 फीसदी की गिरावट आई है। तिलहन की खेती में करीब 13.5 फीसदी की गिरावट आई है। मूंगफली की बुआई 43 फीसदी गिरकर 9.39 लाख हेक्टेयर रही है। कपास की बुआई 24 फीसदी गिरकर 54.6 लाख हेक्टेयर रही है।